नई दिल्ली. गुजरात शहर में स्थित सूरत के सक्रिय कार्यकर्ता और शिक्षाविद युवराज पोखरना ने  शहर के एक स्कूल में कई किताबें दान करने का फैसला किया है। पोखरना ने कहा कि उन्होंने जरुरतमंद बच्चों के कारण यह फैसला लिया. 

पोखरना कहते हैं, “मेरे जानने वाला  एक पुस्तक-विक्रेता ने कोरोना से पहले उसका व्यवसाय ठप पड़ गया था।” किताबें न बिकने के कारण उसने  किताबों के रद्दी के भाव बेचने का फैसला किया “। सभी किताबों का वजन 1.5 टन से अधिक था। पोखरना ने आगे कहा कि एक, किताब को बर्बाद होने के बजाय जरूरतमंदों तक पहुंचाने में मदद करें। जिससे दूसरे दोस्त की आर्थिक मदद हो जाएगा।

इसलिए, उन्होंने फैसला किया वह महामारी के बीच उन पुस्तकों को खरीद लेंगे। इन पुस्तकों को घोषित करने और वर्गीकृत करने के बाद, वह खुशी से बोलते हैं, “अंत में, ये उन बच्चों के लिए जा रहे हैं जो इसके योग्य हैं।” स्कूल, जहां ये बच्चे पढ़ रहे हैं। 

CBSE Board Exam New Date Sheet: सीबीएसई ने 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की कुछ तारीखों में किया बदलाव, देखे नई डेटशीट

NTPC Recruitment 2021: NTPC ने इंजीनियर के पदों पर निकाली बंपर भर्ती, ntpccareers.net

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर