नई दिल्ली. 7th Pay Commission, 7th CPC Latest News Today: दिल्ली सरकार ने गुरुवार को स्पष्ट कर दिया कि कुछ निजी स्कूलों द्वारा अनुचित फीस वृद्धि शिक्षकों के लिए सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों की मंजूरी से संबंधित नहीं थी. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि निहित स्वार्थों द्वारा गलत धारणा बनाने का प्रयास किया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी सरकार आयोग की सिफारिश के लागू होने के खिलाफ है. ये सभी आरोप पूरी तरह से आधारहीन है.

बुधवार को दिल्ली उच्च न्यायालय ने शहर के निजी गैर-मान्यता प्राप्त स्कूलों द्वारा 8 अप्रैल तक फीस में अंतरिम बढ़ोतरी पर रोक लगा दी. दिल्ली सरकार ने 2017 में सातवें केंद्रीय वेतन आयोग (सीपीसी) की सिफारिशों का पालन करने के लिए अंतरिम उपाय के रूप में दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) की जमीन पर मान्यता प्राप्त, गैर-मान्यता प्राप्त, निजी स्कूलों को फीस में 15 प्रतिशत की वृद्धि करने की अनुमति दी थी.

दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि निजी स्कूलों में काम करने वाले शिक्षकों के लिए सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने से कुछ निजी स्कूलों की अनुचित फीस वृद्धि का कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने कहा कि लेखा परीक्षा के दौरान, अधिकांश बड़े स्कूलों में आयोग की सिफारिशों के लागू होने के बाद भी 7 करोड़ रुपये से लेकर 40 करोड़ रुपये तक की राशि पाई गई थी.

उन्होंने कहा, डीडीए द्वारा आवंटित सरकारी भूमि में 325 निजी स्कूल स्थित हैं. इनमें से 260 स्कूलों ने फीस वृद्धि के लिए आवेदन किया था, लेकिन 32 स्कूलों ने अपने आवेदन वापस ले लिए. खातों के ऑडिट के दौरान, यह पाया गया कि लगभग 150 स्कूलों के पास सातवें वेतन आयोग को लागू करने के लिए पर्याप्त राशि थी और इसलिए फीस में वृद्धि की अनुमति से इनकार कर दिया गया था. बाकी आवेदन प्रक्रिया के तहत हैं.

सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार शहर में शिक्षा में निजी स्कूलों की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार करती है. उन्होंने कहा कि सरकार निजी स्कूलों द्वारा फीस के नाम पर अभिभावकों से जबरन वसूली के खिलाफ है. उन्होंने छात्रों के वैध हितों के खिलाफ लड़ने के लिए छात्रों से एकत्र की गई फीस का उपयोग करते हुए बेहद महंगे वकील को काम पर रखने की विडंबना की ओर इशारा किया.

7th Pay Commission: सातवें वेतन आयोग के तहत नहीं बल्कि हर साल बढ़ेगा सरकारी कर्मचारियों का वेतन!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App