नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बीते दस दिनों में तमाम फैसले लिए. अपने चुनावी घोषणापत्र में बीजेपी ने यूपी की जनता से जो वादा किया था. उन वादो पर अक्षरसह पालन करने की पूरी कोशिश कर रही है यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार. लेकिन एक वादा जिसने योगी सरकार को अल्पसंख्यक वोट बैंक में दरार डालने में बड़ी भूमिका निभाई वो था ट्रीपल तलाक का वादा.
 
कहा जाता है कि ट्रीपल तलाक के मुद्दे पर बीजेपी को यूपी में मुस्लिम महिलाओं ने काफी वोट दिया. उसी का असर है कि अब यूपी में ट्रिपल तलाक से पीडित महिलाएं इंसाफ के लिए सीधे योगी के दरबार में पंहुच रही है. फिलहाल ट्रिपल तलाक के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सविंधान पीठ का गठन कर कल सुनवाई करेगी.
 
लेकिन मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने दो टूक कह दिया है कि शरियत के मामले में ना तो अदालतें और ना ही सरकारे दखल दे. ऐसे में ट्रीपल तलाक का मुद्दा गर्मा गया है. सवाल ये है कि जिस तरीके से योगी के दरबार में ट्रिपल तलाक से पीडित महिलाएं फरियाद लेकर आ रही है.क्या योगी इन महिलाओं को इंसाफ दिला पाएंगे.
 
(वीडियो में देखें पूरा शो)
SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर