नई दिल्ली: भ्रष्टाचार मिटाएंगे लेकिन राजनीति में नहीं जाएंगे, अन्ना आंदोलन के इस बीज मंत्र से देश में एक नई उम्मीद जगाकर अरविंद केजरीवाल एंड टीम आगे बढ़ी. हालात बदले तो अन्ना का मूल मंत्र पीछे छूटा. पहले सियासी पार्टी बनाई फिर भ्रष्टाचार मिटाने की कसमें खाईं गईं.
 
नयी सियासी लकीर खींचकर आम आदमी पार्टी दिल्ली की सत्ता पर काबिज हुई. लेकिन आज उसी आंदोलन से निकले एक शख्स कपिल मिश्रा ने अपने मुखिया अरविंद केजरीवाल पर 2 करोड़ रुपए की रिश्वत लेने के जो आरोप लगाए हैं वो अपने आप में बड़ा सवाल है.
 
जनगणमन में आज इसी बात पर बहस होगी कि केजरीवाल के खिलाफ कपिल के आरोप में कितना दम है ? कपिल मिश्रा जो कह रहे हैं वो सच है या फिर केजरीवाल के खिलाफ बड़ी साजिश है ?  
 
(वीडियो में देखें पूरा शो)

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर