नई दिल्ली. संघ प्रमुख मोहन भागवत एक बार फिर से अपने बयान की बजह से सुर्खियों में आ गए हैं. उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान हिन्दुओं की आबादी पर खुल कर बोला. भागवत ने कहा कि हिन्दुओं को आबादी बढ़ाने से किसने रोका है. उनके इसी बयान पर देश की सियासत गरमा गई है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअसल आगरा में एक प्रोग्राम के दौरान भागवत ने साफ-साफ कह दिया कि दूसरे धर्मों की आबादी बढ़ रही है लेकिन हिंदुओं की नहीं. उन्होंने कहा, ‘कौन सा कानून कहता है कि हिंदुओं की जनसंख्या नहीं बढ़नी चाहिए. जब अन्यों की जनसंख्या बढ़ रही है तो उन्हें कौन रोक रहा है.’
 
भागवत के इस बयान पर सियासी पलटवार भी तुरंत हुए. सबसे तीखा हमला बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने किया. मायावती ने कहा, ‘संघ प्रमुख हिन्दुओं की आबादी की बात कर रहे हैं कि हिन्दू लोग ज्यादा बच्चे पैदा करें, लेकिन केंद्र की सरकार जनता को बताए कि रोजी-रोटी के साधन दे पाएंगे. लोग अभी भी प्रदेश में भूखे मर रहे हैं.’
 
मोहन भागवत के इस बयान के मायने क्या हैं? इंडिया न्यूज के शो जन गण मन में देखिए क्या आबादी बढ़ाने से ही भारत के हिंदुओं का हित होगा? वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App