बेंगलुरु. वेस्ट इंडीज के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल को टी-20 वर्ल्ड कप में एक मैच के दौरान भले ही बैटिंग करने का मौका न मिला हो लेकिन उनके साथ कुछ ऐसा हुआ जिसे देखकर सब हैरान थे.
 
बता दें कि रविवार को वेस्ट इंडीज और श्रीलंका के बीच अहम मैच खेला गया जिसमें आंद्रे फ्लेचर के शानदार 84 रनों की पारी से वेस्टइंडीज ने श्रीलंका को 7 विकेट से हरा दिया. 
 
यह मैच गेल अपनी चोट के कारण नहीं खेल पा रहे थे. इस बीच टीम के प्रवक्ता ने दर्शकों को गेल की परेशानी के बारे में भी बताया, लेकिन दर्शक गेल को पहले बल्लेबाजी करते देखना चाहते थे और इसलिए गेल-गेल के नाम का शोर मचा रहे थें.
 
क्यों नहीं कर पा रहे थे गेल बैटिंग?
बता दें कि आईसीसी का नियम 2.2 यह कहता है कि कोई भी क्रिकेटर अगर चोट लगने की वजह से फील्ड छोड़ कर चला जाता है और दोबारा फील्डिंग करने नहीं आता है तो वह उतने समय तक मैदान पर बैटिंग नहीं कर सकता जितने समय तक फील्डिंग के दौरान वह अनुपस्थित था.इसके अलावा वह तब बैटिंग कर सकता है जब उसकी टीम के पांच विकेट गिर जाए.
 
इस मैच में गेल एक घंटे से भी ज्यादा समय तक फील्डिंग नहीं कर पाये थे इसीलिए चाहते हुए भी इतने समय तक वह बैटिंग नहीं कर सकते थे और दूसरी तरफ वेस्टइंडीज का पांचवा विकेट भी नहीं गिर रहा था. लेकिन गेल ने जबरदस्ती बैटिंग करनी चाही जिसपर अंपायर ने उन्हें रोका और पवेलियन वापस भेजा. इस बीच गेल के व्यवहार पर सवाल खडे़ हो रहे हैं.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर