नई दिल्ली. कोरोना का नया ओमिक्रॉन ( Omicron ) तेजी से दुनिया भर में फ़ैल रहा है. हालांकि, वैज्ञानिक इस वैरिएंट के बारे में जानकारी निकालने में जुटे हैं जिससे समय रहते इस वैरिएंट से बचा जा सके. लेकिन, हाल ही में इस वैरिएंट पर की गई हॉन्ग कॉन्ग की एक स्टडी ने वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ा दी है.

हॉन्ग कॉन्ग की स्टडी में किया दावा

ओमिक्रॉन के बढ़ते कहर को देखते हुए विश्व भर में दहशत का माहौल बना हुआ है, भारत समेत अन्य देशों में भी ओमिक्रॉन के मामले बढ़ रहे हैं, ऐसे में अब लोगों यह चिंता सता रही है कि क्या कोरोना की वैक्सीन इस नए वैरिएंट पर भी कारगर होगी. हॉन्ग कॉन्ग की “इमर्जिंग इंफेक्शियस” नामक पत्रिका की स्टडी में यह पाया गया कि हॉन्ग कॉन्ग के क्वारंटीन होटल में ओमिक्रॉन हवा से फैलता हुआ पाया गया.

हॉन्ग कॉन्ग क्वारंटीन होटल में दो यात्रियों से हवा के जरिए ओमिक्रॉन वैरिएंट पूरे अस्पताल में फ़ैल गया. ये दोनों यात्री अपने कमरे में ही ठहरे हुए थे, न ये कमरे से बाहर निकले, न कोई और इनसे मिलने आया. यहाँ तक कि इनका खाना-पीना भी दरवाजे पर ही रखा जाता था. इन सबके बावजूद ये संक्रमित हो गए और इनसे होटल के अन्य हिस्सों में भी संक्रमण फैल गया. यही वजह है कि इस वैरिएंट के एयरबॉर्न होने की आशंका जताई जा रही है.

वैज्ञानिक कर रहे हैं ओमिक्रॉन के तोड़ की खोज

ओमिक्रॉन का कहर वैश्विक स्तर पर बढ़ते जा रहा है, दिन ब दिन यह वैरिएंट अपने पैर पसार रहा है. ऐसे में, इस वैरिएंट के हवा के फैलने की भी आशंकाएं जताई हालांकि, वैज्ञानिक इस वैरिएंट का तोड़ ढूंढने में लगे हैं, जिससे समय रहते इसके संक्रमण को रोका जा सके.

यह भी पढ़ें:

PM Modi-Putin Meeting Live Updates: मोदी-पुतिन की मुलाक़ात के बाद भारत को मिला बूस्टर डोज़

Car Price Hike from January 2022 : जनवरी से होगा कारो की कीमतों में इज़ाफ़ा, मारुती सुज़ुकी ने सबसे पहले किया ऐलान

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर