नई दिल्ली. देश में कोरोना मामलों में उतार-चढ़ाव लगातार जारी है, हालांकि कोरोना के संक्रमित मरीज़ अब बड़ी तेज़ी से कम हो रहे हैं. ऐसे बीते दिनों दक्षिण अफ्रीका से सामने आए कोरोना के नए संक्रमण ओमिक्रोन ( Omicron ) ने अपनी दहशत दिखाना शुरू कर दिया है. दक्षिणी अफ्रीका के कीच नागरिक जब भारत लौट तो वे कोरोना संक्रमित पाए गए. हालांकि दोनों ही मरीजों में कोरोना के नए वैरिएंट की पुष्टि नहीं हुई है. लेकिन नए वायरस ने देश को एक बार फिर डरा दिया है. लोगों के बीच इस बात को लेकर आशंका तेज़ हो गई है कि क्या यह नया वैरिएंट कोरोना के पिछले वैरिएंट से भी ज्यादा खतरनाक है. इसे लेकर सरकार भी अब सख्त रुख अपना रही है.

सरकार ने अपनाया सख्त रुख

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के पाए जाने के बाद सरकार ने सख्ती बरतती नज़र आ रही है. बीते दिन, सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों और विदेश की यात्रा करने वालों के लिए कई नियम लागू किए थे, जिसके तहत कंट्री एट रिस्क से आने वालों के लिए जांच करवाना और अपने 15 दिन की ट्रेवल हिस्ट्री का ब्यौरा देना आवश्यक कर दिया गया है.

इसी क्रम में केंद्रीय ग्रह मंत्रालय ने कोविड-19 दिशानिर्देशों और रोकथाम करने वाले उपायों की मौजूदा वैधता को 21 सितंबर से बढ़ाकर 31 दिसंबर, 2021 कर दिया है. इस मामले पर एक निर्देश जारी करते हुए गृह मंत्रालय ने राज्य सरकारों को ओमिक्रॉन प्रकोप के मद्देनजर स्वास्थ्य मंत्रालय की 25 नवंबर की एडवाइजरी का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए हैं.

केंद्र का दावा, रैपिड एंटीजन टेस्ट और RTPCR की पकड़ में होगा नया वैरिएंट

नए वैरिएंट की दहशत के बीच निश्चित रूप से केंद्र सरकार ने आमजन को राहत का संदेश सुनाया है. केंद्र सरकार के अनुसार केंद्र का दावा, रैपिड एंटीजन टेस्ट और RTPCR की पकड़ में यह नया वैरिएंट पूरी तरह होगा. यदि कोई इस वैरिएंट के वायरस से संक्रमित है तो इसके लिए उसका कोरोना तेसर करवाना पर्याप्त होगा. टेस्टिंग के बाद संक्रमित व्यक्ति का पता लगाया जा सकेगा.

यह भी पढ़ें:

IIT: आईआईटी की फीस जमा नहीं कर पाई छात्रा ने किया कुछ ऐसा की हाईकोर्ट जज ने खुद ही प्रभावित होकर भर दी फीस

Drink Decoction to Increase Immunity इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए पिएं काढ़ा

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर