Baby massage health 

नई दिल्ली. Baby massage health ठंड के मौसम में सर्द हवाएं सेहत और त्वचा को नुकसान पहुंचाती है, इससे नवजात शिशुओं को बचाने की ज़रूरत होती है। अगर आपके घर भी नवजात बच्चा है तो ख़ासतौर पर उसका ध्यान रखें क्योंकि छोटे बच्चे नाज़ुक होते हैं इसलिए उनके सर्दियों में बीमार होने की संभावना बढ़ जाती है। आमतौर पर ठंड के मौसम में नहलाने से ठीक पहले बच्चे को तेल मालिश की जाती है, जिससे बच्चे का शरीर गर्म रहे एवं मांसपेशियां मज़बूत हों..

शिशुओं की तेल मालिश जरुरी है क्योंकि इससे मांसपेशिया मज़बूत होती हैं और सेहत भी तंदूरुस्त रहती है, शिशु की मालिश करते वक्त ध्यान रखे कि मालिश ठीक तरीके से की जाए। साथ ही मालिश में इस्तेमाल किए जाने वाले तेल के बारे में भी खास सावधानी रखनी चाहिए। नारियल तेल की मालिश (coconut oil massage): बच्चों की त्वचा कोमल होती है, इसलिए उनकी मालिश के लिए नारियल के तेल को अच्छा माना जाता है. इसे इस्तेमाल खासकर ठंड के मौसम में बच्चे को धूप में लेटाकर करना चाहिए।

मालिश के वक़्त ध्यान रखे के 4 बातें

1. बेबी के त्वचा पर नारियल तेल की मालिश करने से यह सनस्क्रीन की तरह काम करता है। नारियल के तेल से शिशुओं की नियमित रूप से मालिश करने पर वे सूरज की UV किरणों से बचे रहते है, जो उनके सेहत के लिए लाभदायक है.
2. नारियल तेल में एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं जो कईइंफेक्शन्स से बच्चो को बचाती हैं।
3. बच्चे के मुंह पर कई बार छोटे-छोटे दाने निकल आते हैं। इसकी वजह से बच्चों को दर्द और खुजली भी होने लगती है। इस प्रकार के दाने,वक्त के साथ इंफेक्शन का रूप ले लेते है और फिर पूरे शरीर में फैलने लगते है. ऐसे में नारियल तेल की मालिश इन सभी तरह की परेशानियों से बच्चो को बचा सकती है।
4. डायपर के इस्तेमाल से बच्चों की स्किन पर रैशेज़ हो जाते हैं। इससे बचने के लिए स्किन के साथ-साथ बच्चो के डायपर पर भी हल्का तेल लगा दें, जिससे उन्हें कोई परेशानी ना हो और वे हैल्दी रहे.

ये भी पढ़ें:

Corona Update: नहीं थम रहा मौतों का आंकड़ा, 24 घंटे में 1008 मौत, 1,72, 433 नए केस

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर