Saturday, December 3, 2022

भारत में कोरोना के 24 घंटों में 15,754 नए एक्टिव मरीज, कुल मरीजों की संख्या में हुई बढ़ोतरी

नई दिल्ली: कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। आए दिन कोरोना के मामले बढ़ते नजर आ रहे हैं। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार कोरोना के नए आंकड़ों में पिछले 24 घंटे में 15,754 नए एक्टिव मरीज सामने आए हैं। वहीं इस दौरान 15,220 मरीज रिकवर हुए हैं। वहीं अब कुल मरीजों की संख्या 1,01,830 हो गई है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण

आकाश हेल्थकेयर में क्रिटिकल केयर मेडिसीन के वरिष्ठ कंसल्टेंट एवं विभागाध्यक्ष डॉ विशाख वर्मा ने बताया कि स्वाइन फ्लू के लक्षण आम सर्दी-जुकाम जैसे ही होते हैं, इसीलिए लोग अक्सर शुरू में इसे गंभीरता से नहीं लेते। उन्होंने कहा की, स्वाइन फ्लू के मरीज को आमतौर पर गले में खराश, पेट दर्द और खांसी जैसी समस्याओं को झेलना पड़ता है। इसके अलावा, सांस लेने में भी परेशानी होती है।

स्वाइन फ्लू के मामले बढ़ने का कारण

वहीं, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम के श्वसन रोग विभाग के निदेशक डॉ मनोज गोयल ने कहा कि कोरोना महामारी की वजह से फ्लू का टीकाकरण बाधित हुआ जो स्वाइन फ्लू के मामले बढ़ने का एक कारण हो सकता है। उन्होंने कहा कि इस कारण स्वाइन फ्लू का प्रकोप बढ़ने की संभावना है, सफदरजंग अस्पताल में कम्युनिटी मेडिसीन के प्रमुख डॉ जुगल किशोर ने कहा कि अगस्त-सितंबर में स्वाइन फ्लू के मरीजो में बढ़ोतरी होने की संभावना है।

नवंबर-दिसंबर तक रहेगा स्वाइन फ्लू

सफदरजंग हॉस्पिटल के सामुदायिक चिकित्सा के प्रमुख डॉ जुगल किशोर ने कहा कि, “अगस्त-सितंबर में, हम इन मामलों में स्पाइक देखते हैं और हर 2-3 साल में, इस तरह के स्पाइक्स होने पर का क्रम होता है। लोगों को वैक्सीन लगवाना चाहिए और स्वाइन फ्लू का यह मौसम नवंबर-दिसंबर तक बना रह सकता है।

 

 

जम्मू-कश्मीर: चुनाव आयोग का बड़ा फैसला- अब बाहर के लोग भी डाल पाएंगे वोट, जुड़ेंगे 25 लाख नए मतदाता

Latest news