Saturday, August 13, 2022

Antybody: ओमिक्रॉन के जल्द मिलेगी राहत, वैज्ञानिकों को मिला ओमिक्रॉन का तोड़

Vaccine for Omicron:

नई दिल्ली. Antybody: देशभर में तेजी से फ़ैल रहे कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन का तोड़ अब वैज्ञानिकों को मिल गया है. वै वैज्ञानिकों की टीम ने उस एंटीबॉडी की पहचान कर ली है, जो ओमिक्रॉन के असर को खत्म करने में कारगर है.

इस तरह से रुकेगी तीसरी लहर

कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन देश दुनिया में तबाही मचा रहा है. यह वैरिएंट कोरोना के डेल्टा और डेल्टा प्लस वैरिएंट की ही तरह लोगों को डरा रहा है. ये वायरस अब तक दुनिया भर के 108 देशों में फ़ैल चुका है. भारत में ओमिक्रॉन तेज़ी से अपने पैर पसार रहा है. ऐसे में, भारत में इस वैरिएंट के आने से तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है. ओमिक्रॉन के इस दहशत भरे माहौल ने वैज्ञानिकों ने एक राहत भरी खबर दी है. वैज्ञानिकों ने अब इस वैरिएंट का तोड़ ढूंढ निकाला है.

नेचर जर्नल में किया दावा

कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन देश में कोहराम देश में कोहराम मचाने के साथ-साथ अब 108 देशों तक यह पहुंच चुका है. भारत में 804 ओमिक्रॉन वैरिएंट के मरीज मिल चुके हैं. दुनियाभर के साइंटिस्ट ऐसे वैरिएंट के लिए ऐसी एंटीबॉडी की खोज कर रहे हैं जिसके चलते इससे लड़ा जा सके. इसी बीच एक एक राहत भरी खबर है . हाल ही में एक स्टडी हुई है जिसमें दावा किया गया है कि ओमिक्रॉन के खिलाफ एंटीबॉडीज का पता लगा लिया गया है. जो इसे और किसी भी प्रकार के कोरोना वैरिएंट से लड़ने में सक्षम होगा.

बूस्टर डोज़ क्यों ज़रूरी

कोरोना के नए वैरिएंट के बढ़ते कहर के बीच वैज्ञानिकों ने बूस्टर डोज़ की अनिवार्यता पर बताया कि जिन लोगों को कोरोना की दूसरी डोज़ लगे 6 महीने हो गए हैं या जो पहले कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो गई है. इसलिए उन लोगों को कोरोना की बूस्टर डोज़ लगाईं जानी चाहिए।

भारत में ओमिक्रॉन केस

भारत में तेजी से ओमिक्रॉन संक्रमण फ़ैल रहा है, ऐसे में देशभर में अब तक 804 ओमिक्रॉन मामले सामने आ चुके हैं.

यह भी पढ़ें:

Petrol-Diesel price in Jharkhand: ‘झारखंड में सस्ता हुआ पेट्रोल-डीज़ल, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान

Amit Shah in Gujrat : अमित शाह अपने संसदीय क्षेत्र को देंगे 49 करोड़ की सौगात

Latest news