नई दिल्ली. दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे पर यात्रियों की मुफ्त सेवा अब समाप्त होने जा रही है. चिपियाना (अलीगढ़ रेल लाइन) में छह लेन का रेलवे ओवरब्रिज तैयार होने के बाद नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने परिवहन मंत्रालय से मंज़ूरी मांगी है, जिसके बाद से इस लेन पर टोल टैक्स वसूला जाएगा. बता दें कि मंत्रालय ने फिलहाल मौखिक मंजूरी दी है और अब नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) को लिखित में मंजूरी का इंतज़ार है.

तैयार हुआ 6 लेन एक्सप्रेसवे

सराय काले खां से मेरठ के बीच दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे तैयार किया गया है, जिसमे डासना से हापुड़ के बीच का चरण भी शामिल है. इस एक्सप्रेसवे के दूसरे चरण में चिपियाना ओवरब्रिज का काम पूरा न होने की वजह से हाइवे अथॉरिटी टोल टैक्स नहीं ले पा रही थी, क्योंकि परिवहन मंत्रालय ने यह तर्क दिया था कि टोल टैक्स के लिए कम से कम 6 लेन का होना ज़रूरी है. अब इस ओवरब्रिज का काम पूरा हो जाने से एनएचआई टोल टैक्स की वसूली कर सकती है, परिवहन मंत्रालय से लिखित मंजूरी मिलने के बाद हाइवे अथॉरिटी टोल टैक्स की दरें जारी कर देगी. बताया जा रहा है कि 1 सितम्बर से टोल टैक्स की वसुली की जाएगी. साथ ही एनएच-24 के दोनो पुराने ओवरब्रिज में से एक को यातायात के लिए खोल दिया जाएगा, जिसकी दो लेन मिलेगी, इस तरह से आठ लेन पर वाहन दौड़ सकेंगे. एनएचएआई अधिकारियों का कहना है कि, ‘छह लेन के नए आरओबी पर लोड टेस्ट हो चुका है, जिसे अभी यातायात के लिए खोला गया है, लेकिन मंगलवार को फिर से बंद किया जाएगा क्योंकि अभी स्ट्रीट लाइट के लिए खंभों की फिटिंग व अन्य काम बचा है, जिसे एक बार बंद करने पर चार से पांच दिन में पूरा कर लिया जाएगा.’

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर