नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास शो गुरु मंत्र में आज सेहत के बारे में बात की जाएगी. क्या मोटा होना अच्छी सेहत की निशानी है या फिर कमजोर शरीर खराब सेहत की तरफ इशारा करता है. लेकिन आप में से ज्यादातर लोगों का जवाब होगा- हां, लेकिन यह सही नहीं है. क्या आप जानते हैं आपकी कुंडली में सेहत के कई राज छुपे रहते हैं. जन्मकुंडली के अनुसार मोटापा उन लोगों को आता है जिनकी जन्मकुंडली के अंदर बुध और बृहस्पति का आपस में मेल हो जाए.

इनमें से एक या फिर दोनों गृह खराब हो उस स्थिति में भी मोटापा पक्का है. वहीं जिन लोगों की जन्मकुंडली के अंदर शुक्र बहुत ही खराब व्यवस्था के अंदर हो या फिर शुक्र का मेल बृहस्पति के साथ में हो उन लोगों को भी मोटापा आता है. क्योंकि बुध और बृहस्पति दोनों ही दिमाग के ग्रह हैं. इनका शरीर के साथ ज्यादा संबंध नहीं होता है, लेकिन नसों के साथ, हमारी ऑक्सीजन प्रक्रिया के साथ और इन दोनों की वजह से जो हमारी सोच उत्पन्न होती है उसके साथ संबंध होता है.

इसलिए इन दोनों की मदद से शरीर के अंदर एक फुलावट वाली स्थिति पैदा हो जाती है. यह शरीर को बढ़ाना शुरू कर देता है. इसकी वजह से बच्चों को बचपन से ही सांस लेने में दिक्कत आती है. मोटापे का हमारी कुंडली से क्या संबंध है, कुंडली में मोटापे के लक्षणों को कैसे पहचाने, छोटो बच्चे बार बार बीमार क्यों पड़ते हैं, शारीरिक कमजोरियों का ग्रहों से क्या संबंध है. बच्चों को शारीरिक कमजोरियों से कैसे बचाएं और निरोग रहने के उपाय क्या हैं आपको इन सभी सवालों का जवाब दे रहे हैं – गुरुदेव जी डी वशिष्ठ.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App