नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास कार्यक्रम गुरु मंत्र में कोर्ट कचहरी जैसे महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा की गई. हर इंसान कोर्ट कचहरी के चक्कर से बचना चाहते हैं तो वहीं कुछ लोग कोर्ट में सालों से चल रहे केसों की वजह से परेशान होते हैं. इस तरह की समस्याओं से कैसे छुटकारा पाया जाए इस पर गुरु विशिष्ठजी बताएंगे. दरअसल कुछ लोगों की कुंडली में ऐसे योग होते हैं जिसकी वजह से उन्हें कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने पड़ते हैं.

जन्मुकंडली में जितने भी ग्रह है वो सभी बुध के दायरे में हैं. बुध एक ऐसा ग्रह हैं जो कुंडली में जब मर्जी पलट जाता है और इंसान की जिंदगी में परेशानी खड़ी हो जाती है. बुध ग्रह की वजह से ही कोर्ट कचहरी की परेशानी खड़ी होती हैं. जब भी कुंडली में शनि और राहु के बीच आपस में मेल हो जाए या शनि देव की दृष्टि राहु पर पड़ती है तब कोर्ट कचहरी जैसी दिक्कत उत्पन्न होती है.

शनि की कई दृष्टि होती हैं. ऐसे में शनि के दृष्टि जब तीसरे, 7वें, 8वें और 10वें घर में होता है तब कोर्ट कचहरी का योग होता है. इसके अलावा शनि व राहु का मेल और बुध की स्थिति खराब हो तो इंसान को जिंदगी भर तक कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने पड़ते हैं. बुध की स्थिति ऐसी होती है कि वह रातोंरात बदल कर इंसान की जिंदगी बदल देता है तो बर्बाद भी कर देता है.

गुरु मंत्र: मांगलिक दोष से सिर्फ जीवनसाथी से ही नहीं अन्य रिश्तों में आती है दरार

गुरु मंत्र: मांगलिक दोष की वजह से पति-पत्नी रहते हैं सदा दुखी, इस दोष की ये है पहचान

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App