नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के कार्यक्रम गुरु मंत्र में गुरु देव जीडी वशिष्ठ ने डिप्रेशन और तनाव पर बातचीत की. गुरु देव ने बताया कि जब जन्म कुंडली में बुध और राहु खराब स्थिति में आ जाएं तो डिप्रेशन जैसी चीजें हो सकती है. अगर किसी की कुंडली में राहु आठवें और बुध बारहवें स्थान पर है तो डिप्रेशन जैसी समस्या संभव है. ऐसे में बहुत छोटी सी बात व्यक्ति को डिप्रेस कर देती है. कई बार नए कॉलेज में जाने पर रैगिंग या परिवार में किसी के कुछ कह देने पर भी छात्र डिप्रेशन में चले जाते हैं.

इसके अलावा प्यार में दिल टूटने पर भी लोग डिप्रशन में चले जाते हैं. बुध और राहु खराब होने से ये सब होता है. लेकिन अगर इसके साथ किसी का शनि भी खराब हो जाए तो स्थिति बदतर हो जाती है और इंसान आत्महत्या की स्थिती तक पहुंच जाता है. पढ़ने वालो बच्चों की कुंडली में ऐसी स्थिति उसकी काबलियत को व्यर्थ कर देता है. ऐसे में इंसान खुद को और घरवालों को चोट पहुंचाता है.

इस सब से निजात के लिए घर से नीला काला और हरा रंग निकाल दें. शरीर पर भी ये तीनों रंग न पहनें. बुध खराब होने पर घर मनी प्लांट भी बाहर निकाल दें वरना बुध को ही एनर्जी मिलेगी और आपको नुकसान होगा. इसके अलावा नदी में एक दो फुट उतर कर स्नान करें और चार किलो जौ लेकर पानी में बहा दें, समस्या का समाधान होगा.

फैमिली गुरु: जन्माष्टमी पर जानें किस रंग के थे श्रीकृष्ण?, राशि के अनुसार जातक लड्डू गोपाल को चढ़ाएं ये चीजें

गुरु मंत्र: कुंडली के अनुसार करें भगवान की पूजा, जीवन में हमेशा मिलेगी तरक्की

 

 

 

 

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App