नई दिल्ली : गलतियां हर इंसान से हो जाती हैं, आपसे भी जरूर हुई होंगी लेकिन आपको पता नहीं चलता. ये गलतियां अगर आप सही समय पर पहचान लें और सही समय पर प्रायश्चित कर लें तो आने वाली परेशानी को टाला भी जा सकता है. परिवार में दुख आने का सबसे बड़ा कारण होता है लालच, स्वार्थ. ये ऐसी चीज है जो हम लोगों को किसी ना किसी रूप में बेइमान साबित करती है, गलत बनाती है और हम जब अपनी सोच से गलत हो जाते हैं और जो ग्रह उस सोच का कारक होता है वो ग्रह बहुत ही शातिर होकर के हमारे शरीर के अंदर उस ग्रह से संबंधित एनर्जी लेवल को बढ़ा देता है.

जब वो एनर्जी बढ़ा देता है उसके बाद अगर हम कोई भी बच्चा पैदा करते हैं तो उस बच्चे के शरीर के अंदर भी उन ग्रहों से संबंधित ऊर्जा प्रवाह होती है. जब उस ग्रह से संबंधित ऊर्जा ज्यादा हो जाती है तो इसका सीधा मतलब ये होता है कि वो बच्चा आपकी ही मानसिकता लेकर के पैदा हुआ है.

वही गुण या अवगुण जो आप में था वही गुण या अवगुण लेकर के आपका बच्चा पैदा हुआ है. उसकी मात्रा उसके अंदर जन्मजात है. उसके बाद आपने पहले कम गलतियां की, आपके बच्चे ने उससे कहीं ज्यादा गलतियां की, उसकी औलाद उससे ज्यादा गलतियां करेगी और ऐसे में ये एक पितृ दोष बन जाएगा.

Guru Matra: महिलाओं को खूबसूरत बनाने वाले ज्योतिषीय उपाय जानिए

Guru Mantra: कुंडली में मर्दों की सुंदरता के लिए जिम्मेदार हैं ये ग्रह, जानिए उपाय

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App