नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास कार्यक्रम गुरु मंत्र में तनाव के विषय के बारे में बताया गया कि आखिर कैसे डिप्रेशन इंसान को जकड़ लेता है और इस स्थिति में इंसान जान देने पर मजबूर हो जाता है. तनाव पर ज्यादा इंसान पर हावी हो जाता है तो व्यक्ति की सोचने समझने की क्षमता न के बराबर हो जाती है. इस स्थिति में जन्मकुंडली के पापी ग्रह और ग्रहों का दोष जिम्मेदार होता है.

डिप्रेशन की स्थिति से निपटने के लिए इंसान को कई अचूक उपाय कर इस खतरनाक बीमारी से बचा जा सकता है. बुध, राहु और शनि के प्रकोप की वजह से कुंडली में व्यक्ति को तनाव होता है. डिप्रेशन में बुध यानी व्यक्ति सोचने समझने और धैर्य खो बैठता है. तनाव के कम करने के लिए बादाम और जौ का इस्तेमाल करना शुभ होता है. बादाम को बुध के रूप में देखा जाता है, वहीं राहु का प्रतीक होता है जौ.

बुध, राहु और शनि के दोषों से बचने के लिए नीले, काला और हरा रंग से परहेज करना है. घर में मनी प्लान, तुलसी और रबड़ प्लांट को हटा दें. अपने बच्चे को नीले हरा और काला रंग पहनने से रोकें. जिस भी शख्स को डिप्रेशन हो उसे नाक छिदवाएं. इससे राहु का दोष कम होता है. गंगा में स्नान करें.दो किलो जौ, या चार किलो जौ पानी में बहाएं. रोजाना 43 दिन चार मुठ्ठी साबुत बादाम गरीबों को दें.

गुरु मंत्र: कुंडली में बुध, राहु और शनि ग्रह दोषों की वजह से होता है तनाव

गुरु मंत्र: कालसर्प दोष दूर करने वाले रामबाण उपाय

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App