नई दिल्ली: गुरु मंत्र में आज आपको कुंडली में राहु की चाल और उससे होने वाली परेशानियों के बार में बताएंगे. ज्योतिष शास्त्र में राहु को छाया ग्रह कहा गया है.राहु पूर्व जन्मों के कर्मों के दर्शाता है. इसलिए ये जानना जरूरी है कि राहु किस तरह से व्यक्ति को नुकसान पहुंचाता है. गुरु मंत्र में जीडी वशिष्ठ बताते हैं कि राहु अगर खराब हो गया तो घर के अंदर जितने क्लेस होता है वो राहु देता है,. एक्सिडेंट जैसी घटनाए भी राहु की वजह से होती है. जितनी भी इंसान के द्वारा उत्पन्न किए हुए खराब हालात वो सब कुछ राहू ही देता है.

राहु ही इस पूरे जगत की इस पूरे ब्रह्मांड की ताकत होता है. अब राहु की चाल की बात करे तो अगर शुक्र आगे को बुध पीछे हो तो बुध अच्छा होता. ऐसे में बुध हमेशा अच्छा फल देता है. लेकिन हालात इसके विपरित हुए तो बुध खराब होता है तो राहु हमेशा बुरा फल देता है. जन्म कुंडली के अंदर राहु के अच्छे होने का एक बुध है. जब बुध खराब तब राहु खराब. राहु जिस शुभ ग्रह के साथ बैठ जाता है तो उसे व्यक्ति परेशान हो जाता है.

राहु सिर्फ बुध के साथ जुड़कर कुछ अच्छा फल देता है. जिनकी जन्मकुंडली के अंदर बुध और शुक्र एक ही घर के अंदर हो उनको राहु की चिंता करने की जरूरत नहीं है. राहु की खराबी अचानक एक्सिडेंट, लड़ाई, इगो पॉवर ये सब कुछ राहु की देन होती है. अगर इस तरह के हालात किसी के साथ हो तो वो राहु का इलाज करें. सबसे पहले काले और नीले रंग के कपड़े पहनना पूरी तरह से बंद करें. उसके बाद शराब और मांस का प्रयोग भी बंद करना होगा. कमरे में रखे इलेक्ट्रॉनिक सामान ना रखे.

अपने घर से बंद घड़ियां, खुटे सिक्के निकाल दें. इसका एक साधारण इलाज है कि 45 दिन लगातार 200 ग्राम या 500 ग्राम जौ लेकर गौ मुत्र के साथ धोकर उसका जल प्रवाह कर दें. और इतने ही जौ गौ मुत्र के साथ धोकर लाल कपड़े में लपेटर कर किसी घर के अंदर दबा करे रखे राहु शांत रहेगा.

गुरु मंत्र: कुंडली में ग्रहों की ये चाल आपको बनाएंगे महाधनवान, जरूर करें ये उपाय

फैमिली गुरु: शनिवार का दिन होगा खास, शिनदेव की बुरी दृष्टि से मिलेगी मुक्ति

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App