नई दिल्ली. केतु को बृहस्पति से साथ मिलवाना होता है. ऐसे बच्चों को केसर का तिलक कान के पीछे जरूर लगाएं. इसके अलावा बच्चे का कान छिदवाकर उसके कान में सोना पहनाएं. बृहस्पति के दिन शाम के समय तिल के तेल का दिया पीपल के पेड़ के नीचे जरूर जलाएं, ऐसा करने से बृहस्पति ग्रह की चाल व दशा सुधरेगी. साथ ही बृहस्पति व केतू का मेल होना शुरू हो जाता है.

शुक्र को अच्छा व सात्विक बनाना भी आवश्यक होता है. बच्चों का भविष्य व उनके करियर को संवारने के लिए शुक्र ग्रह का विशेष महत्व होता है. इसके लिए गाय के घी का दीपक शुक्रवार को जलाएं. इससे बच्चा के दिमाग सही दिशा में चलेगा. बच्चे को बुद्धिवान बनाने के लिए बच्चे को काला व नीला रंग के कपड़े से दूर रखें. बच्चे के जेब में चांदी का चकोर टुकड़ा जरूर रखें.

इसी प्रकार बच्चे का नशे की ओर आकर्षक होना या सीधे यूं कहें की बच्चा नशा करने लगे तो इसके लिए बुध जिम्मेदार होना. जब बुध पापी ग्रहों की दृष्टि में आ जाए तो इंसान नशे की चपेत में आ जाते हैं. यही कारण है कि दुनिया में 80 प्रतिशत लोग हैं जो नशा करता है. ये चंद्र, बुध और पापी ग्रहों के मिलन की वजह से होता है. अगर आपका बच्चा नशे की ओर झुकाव बढ़ रहा है तो ऐसी अवस्था में बच्चे का हरे रंग से दूर रखें. घर के अंदर रबर प्लांट, शंख, मनी प्लानंट नहीं रखना. तोता बिल्कुल नहीं पालना.

गुरु मंत्र: दोस्ती में ऐसे बर्बाद होता है बच्चों का करियर

पूजा का नारियल खराब निकल जाए तो समझिए यह है शुभ संकेत, जानिए कैसे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App