नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास कार्यक्रम गुरु मंत्र में दुर्घटना के विषय पर बात की गई. जहां गुरु विशिष्ठजी ने बताया कि दुर्घटना ग्रह दोषों और बुरे प्रभाव की वजह से भी घटती है. अक्सर आपने देखा होगा कि कुछ लोगों का बार बार एक्सीडेंट हो जाता है. जिसकी वजह से हम गाड़ी या किसी भी वाहन पर दोष मंडते हैं. इसके पीछे हमारी कुंडली की ग्रहों की चाल मुख्य कारण होती है. वहीं बड़े बुजुर्गों के कहना भी गलत नहीं है कि कुछ गाड़ी हर किसी को नहीं फलती नहीं है इसीलिए बार बार एक्सीडेंट होते हैं.

जी हां, ऐसी बातों का उल्लेख एस्ट्रो में भी मिलता है. इंसान को बार बार दुर्घटना इसीलिए फेस करनी पड़ती है क्योंकि उनके जन्म कुंडली में पापी ग्रहों का दोष होता है. पापी ग्रह यानि शनि, राहु और मंगल ग्रहों का असर इंसान को बार बार ऐसे बुरे योग बनाता है. ये ग्रह जब भी टकराव की स्थिति में आते हैं तो सब से ज्यादा असर केतू पर पड़ता है. जन्मकुंडली के अंदर मंगल खराब हो जाए या खराब स्थिति में हो तो बड़ी दुर्घटना होती है.

इसकी वजह से गुस्सा और तेज गति में इंसान गाड़ी चलाता है. अगर जन्म कुंडली में मंगल और शनि साथ में मिल जाए तो इंसान को बर्बाद कर देता है. इन दो ग्रहो के मेल की वजह से एक्सीडेंट के योग बनते हैं. ऐसे लोगों को दान पर ध्यान देना चाहिए. पूरा शो और अन्य उपाय जानने के लिए पूरा शो वीडियो में देखें.

गुरु मंत्र: बुध, सूर्य और बृहस्पति है कमजोर तो पहनें ये रत्न

गुरु मंत्र: जन्म कुंडली में इन दोषों की वजह से पहना जाता है रत्न

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App