नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के शो गुरू मंत्र में होली के रंगो पर बात की जाएगी. होली पर कौन से रंग से होली खेलें ? होली की शाम क्या करें और क्या ना करें, आज एस्ट्रो साइंटिस्ट जीडी वशिष्ठ जी गुरु मंत्र शो में इन सभी विषयों पर चर्चा करेंगे.

होली की शुरूआत कैसे करें
होली मंगल का त्योहार होता है, जहां मंगल होता है वहां बृहस्पति जरूर होता है. किसी भी त्योहार पर इन दोनों ग्रहो की अहम भूमिका होती है. होली के दिन सबसे मंगल को खुश करें. मंगल को खुश करने के लिए घर में जो भी दोस्त और रिश्तेदार आ रहे हो उनके लिए पकवान बनाए. उनके लिए मीठे का इंतजाम करें. उसके बाद बृहस्पति को खुश करें बृहस्पति को खुश करने के लिए सबसे पहले बुजुर्ग के पैर छुकर आर्शिवाद लें. उनके आर्शिवाद लेने से सभी तरह का दुखों का निवारण होगा.

होली खेलने से पहले भगवान का स्मरण करें. अगर आप नहा धोकर पहले भगवान को रंग चढ़ाए. आज के दिन सात्विक होली खेलनी चाहिए. आज के दिन हर तरह के नशे को त्याग कर होली का त्योहार बनाएं. मेष राशि मंगल प्रधान राशि है. जिनके भाई और दोस्तों से काफी बनती है तो उनका मंगल बहुत ही अच्छा है. इन लोगों को लाल रंग या गुलाबी कलर से होली खेलनी चाहिए. इसके विपरीत जिनकी उनके भाई या यार दोस्तो से नही बनती है तो उनका मंगल खराब होता है तो इन लोगों को लाल रंग, हरे रंग, काला रंग और नीले रंग से होली न खेले.

तुला राशि शुक्र प्रधान लोग होते है. जिनका शुक्र प्रधान होता है वह किसी भी त्योहार बहुत अच्छे से मनाते है. इस लोगों को हल्के और चटक रंग से होली खेलनी चाहिए. इन लोगों को गहरे पीले रंग और नीले रंग से होली नही खेलना चाहिए. इसके विपरीत जिनका शुक्र अच्छा ना हो, जो लोग अपने जीवन साथी को पसंद नही करते है उन लोगों शुक्र का खराब होता है इन लोगों को पीले और संतरी रंगों से होली खेलनी चाहिए. आपके सभी सवालों का जवाब देंगे एस्ट्रो साइंटिस्ट जीडी वशिष्ठ इंडिया न्यूज के खास प्रोग्राम गुरु मंत्र में.

गुरू मंत्र: जानिए सूर्य को जल चढ़ाने का ज्योतिषीय और वैज्ञानिक आधार

गुरु मंत्र: जानिए राहु की महादशा को शांत करने वाले उपाय

गुरु मंत्र: जानिए कुंडली में राहु की कौन सी चाल दुश्वार कर देगी आपकी जिंदगी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App