नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास कार्यक्रम गुरु मंत्र में नशे के विषय पर बातचीत की जाएगी. नशा एक ऐसी लत है जिसकी चपेत में पड़कर एक शख्स पूरे परिवार को बर्बाद कर देता है. एस्ट्रोलॉजर गुरुविशिष्ठजी ने बताया कि कैसे नशे और जन्मकुंडली का संबध होता है. जन्म कुंडली के पापी ग्रहों और ग्रहों की सही दिशा नहीं होने के वजह से भी इंसान को नशे की लत लग जाती है.

जी हां, जन्मकुंडली के अंदर कई ऐसे योग होते हैं जो मनुष्य को नशे की ओर से आकर्षित करते हैं. जैसे कुंडली में सूर्य खराब अवस्था में आ जाए या पापी ग्रहों के साथ मिल जाए तो ये योग अवश्य ही मनुष्य को नशे की आदत लगवाते हैं. ऐसे ही अगर पांचवे घर में पापी ग्रह यानी शनि, केतु और राहू बैठे हो तो नशे की आदत लगती है.

इसी तरह बच्चों का पढ़ाई में मन न लगता हो, शुरूआत में ही बच्चे को मोटा वाला चश्मा लग जाए तो ये कुछ ऐसे सकेंत हैं जिसमें बच्चा नशा करता ही करता है. मान लीजिए शनि, राहू व केतू की दृष्टि शुभ ग्रहों पर पड़ती है तो नशे करने के योग बनते हैं. जिन लोगों की जन्म कुंडली में ये सकेंत व योग बनते हैं तो नशे के चांसेस बढ़ते हैं. पूरा शो देखने के लिए वीडियो देखें.

इस वीडियो में देखें शो

गुरु मंत्र: कुंडली में चंद्रमा की ये चाल आपको दिलाएगी अपना मकान

गुरु मंत्र: कुंडली में ग्रहों की इन चाल की वजह से आती है पति-पत्नी के बीच दूरियां, जरूर करें ये उपाय