नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास क्रार्यक्रम गुरु मंत्र में मंगल और बुध ग्रह के बारे में बात की जाएगी. दोनों ही ग्रहों का अपना खास महत्व होता है. दोनों ग्रह ऐसे हैं जो सही दिशा में हो तो इंसान को खूब तरक्की मिलती है. वहीं बुध और मंगल ग्रह यदि खराब हो जाए तो यह इंसान को बर्बाद कर देते हैं. ज्योतिषी के अनुसार कहा जाता है कि अगर बुध और मंगल का मेल हो जाए तो यह अशुभ होता है.

बुध को कुंडली में राजकुमार की उपाधि मिली हुई हैं. बुध सूर्य के सबसे निकट होता है. इसका हमारे जीवन पर सकारात्मक असर पड़ता है. जिस इंसान की जन्मकुंडली में बुध खराबी पर आई इसकी पहचान ये होती है कि उस व्यक्ति में धैर्य की कमी हो जाती है. सेहत ठीक नहीं रहती और नसों संबंधी परेशानियां होती हैं. जिंदगी में तनाव का शिकार हो जाते हैं.

वहीं जब मंगल और बुध का मेल हो जाए तो इंसान को काम न मिलने की वजह से डिप्रेशन का शिकार हो जाता है. बुध जब अकेला हो कुंडली में तो व्यक्ति दिमाग से चतुर होता है. इस प्रकार के लोग खूब तरक्की हासिल करते हैं. बुध जिन कुंडलियों में अच्छे होते हैं वह काफी समझदार होते हैं और लोगों की परख अच्छी तरह से जानते हैं.

वीडियो में देखें पूरा शो

गुरु मंत्र : कुंडली के 7, 12, 1, 4, और 8वें घर में मंगल ग्रह का कुप्रभाव, इसी वजह से होता है मांगलिक दोष

गुरु मंत्र : मांगलिक और आंशिक रूप से मांगलिक होना दो अलग चीजें हैं, जानें कैसे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App