नई दिल्ली. आजकल की जीवनशैली में तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है. लगातार तनाव में रहने से कई बीमारियां भी हो जाती है. इससे मानसिक स्थिति का अंदाजा नहीं रहता और कुछ लोग इस तनाव में गलत कदम उठाने को मजबूर हो जाते हैं. कई बार अपने प्रिय के द्वारा छोटी सी बात कह देने से वो लोग डिप्रेशन में चले जाते हैं. दरअसल इसके पीछे कुछ ज्योतिषी कारण भी होते हैं. हमारी कुंडली में जब भी बुध खराब हो जाता है तो व्यक्ति लगातार नकारात्मक सोचने लगता है, और एक ऐसा जाल बुन लेता है जिससे वो कदाचित निकल ही नहीं पाता. ऐसे में वो मौत को गला लगाना आसान समझता है. डिप्रेशन के लिए बुध और राहु जिम्मेदार होते हैं. आपकी कुंडली में विराजमान बुध और राहु आपको अवसाद की ओर धकेल देते हैं. अगर इनके साथ शनि भी मिल जाए, यानि की वह भी खराब स्थिति में हो फिर आपको घोर अवसाद घेर लेता है.
 
गुरुमंत्र में आज डिप्रेशन और तनाव कब आपके लिए जानलेवा हो जाते है, मौत को गले लगाना क्यों आसान लगने लगता है, दिल टूटने के बाद डिप्रेशन से बाहर निकलने के अचूक उपाय और कौन सी पूजा आपको गलत कदम से बचाएगी, जैसे अनेक विषय पर बात करेंगे.अगर आप जानना चाहते हैं कि कौन सी पूजा कर आप अपने तनाव को दूर कर सकते हैं या फिर दिल टूटने के बाद डिप्रेशन से कैसे बाहर निकलें, तो आपके सभी सवालों का जवाब देंगे एस्ट्रो साइंटिस्ट जीडी वशिष्ठ इंडिया न्यूज के खास प्रोग्राम गुरु मंत्र में.