नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीट पर वोटों की गिनती शुरु हो गई है और शाम होते ये ये पता चल जाएगा कि वेस्ट बंगाल से कौन जीत रहा है और कौन विजेता बनकर संसद जा रहा है. इसके बाद वोट शेयर, विजेताओं और विनर्स की लिस्ट Vote Share, Winners, List of winners, Leads, Vote Counting Results के बारे में बता चल जाएगा.  पश्चिम बंगाल में 42 मतगणना केद्रों पर काउंटिंग के आगे और पीछे के रूझान आते ही ये साफ हो जाएगा कि ज्यादातर एग्जिट पोल और नतीजों के मुताबिक नरेंद्र मोदी की बीजेपी जीत रही है या फिर या ममता बनर्जी की टीएमसी सहित सीपीआई और सीपीएम अमित शाह की रणनीति पर भारी पड़ते हैं.पश्चिम बंगाल में इस बार लोकसभा चुनाव काफी दिलचस्प होने वाले हैं. ऐसा माना जा रहा के बीजेपी पश्चिम बंगाल में इस बार बेहतर प्रदर्शन करते करेगी. पश्चिम बंगाल की आसनसोल लोकसभा सीट से बीजेपी कैंडिडेट बाबुल सुप्रियो चुनावी मैदान में हैं जिनके खिलाफ टीएमसी से मुनमुन सेन लड़ रही हैं. वहीं बसीरहाट से नुसरत जहां तृणमूल कांग्रेस की उम्मीदवार हैं. हावड़ा लोकसभा सीट पर टीएमसी के प्रसून जोशी, कांग्रेस के सुव्रा घोष और बीजेपी की रांतिदेव सेन गुप्ता के बीच मुकाबला है. जबकि दार्जीलिंग लोकसभा सीट पर टीएमसी के अमर सिंह राय, कांग्रेस के शंकर मालाकार और बीजेपी के राजू सिंह बिष्ट चुनावी समर हैं.

लोकसभा चुनाव 2019 में पश्चिम बंगाल में जमकर चुनाव प्रचार हुआ. भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल में चुनावी प्रचार के दौरान अपनी पूरी ताकत झोंक दी. पश्चिम बंगाल में बीजेपी ने हिदुंत्व के मुद्दे को पूरे जोर शोर से उठाया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह को ने भी जमकर प्रचार किया. पश्चिम बंगाल की अगर और प्रमुख सीटों पर नजर डाली जाए तो रायगंज लोकसभा सीट पर टीएमसी के उम्मीदवार कनैया लाल अग्रवाल कांग्रेस की दीपा दासमुंशी और बीजेपी के देबोश्री चौधरी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. इसके अलावा रुपा गांगुली की सीट, अनुपम हजारा, जाधवपुर, दुर्गापुर, पुजविहार, घाटल प्रमुख सीटों के चुनाव परिणाम पर सबकी नजर होगी. पश्चिम बंगाल की लोकसभा सीटों पर चुनाव में कैंडिडेट्स के आगे-पीछे का रुझान, हार-जीत और विजेता का नतीजा यहां नीचे बॉक्स में चुनाव आयोग की वेबसाइट से लाइव देखिए. आप आगे-पीछे और ऊपर-नीचे करके अपनी पसंद की सीट पर प्रत्याशी के वोट, ट्रेंड, लीड, आगे-पीछे और हार-जीत का हिसाब देख सकते हैं.

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए 42 लोकसभा सीटों में से 34 सीटों पर कब्जा किया था. वही साल 2014 में नरेंद्र मोदी की लहर बावजूद पश्चिम बंगाल महज 2 सीटों पर सिमट गई थी. वहीं सीपीआईएम को दो सीटों पर संतोष करना पड़ा. पश्चिम बंगाल में ये ममता बनर्जी की लोकसभा चुनाव में ये सबसे बड़ी जीत थी. हालांकि इसके बाद ममता की पार्टी में कद्दावर नेता मुकुल रॉय ने टीएमसी से किनारा कर बीजेपी का दामन थाम लिया था. इस बार ऐसा माना जा रहा है कि पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के बीच कड़ टक्कर है. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App