नई दिल्लीः एक देश एक चुनाव (One Nation One Election) पर हो रही चर्चा के बीच मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत का कहना है कि अगर लोकसभा चुनाव समय से पहले कराए जाते हैं तो चुनाव आयोग लोकसभा और चार राज्यों के विधानसभा चुनाव एक साथ दिसंबर में करा सकती है. इसमें कोेई दिक्कत नहीं है. जबकि इससे पहले ओपी रावत ने कहा था कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए पूरे देश में एक साथ चुनाव संभव नहीं है. रावत ने यह बात छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, मिजोरम औऱ राजस्थान विधानसभा चुनाव को एक साथ दिसंबर में कराए जाने के सवाल पर कही.

इस सवाल पर ओपी रावत ने कहा कि क्यों नहीं, कोई समस्या नहीं होगी. गौरतलब है कि ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि अप्रैल-मई 2019 में प्रस्तावित लोकसभा चुनाव को दिसंबर 2018 में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनावों के साथ कराया जा सकता है. जिस पर पहले को मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा था कि ऐसा संभव नहीं है लेकिनअब उनका कहना है कि चार विधानसबा के चुनावों और लोकसभा चुनावों को एक साथ कराने में चुनाव आयोग सक्षम है.

बताते चलें कि मिजोरम में विधानसभा का कार्यकाल 15 दिसंबर को खत्म हो रहा है. वहीं छत्तीसगढ़ में पांच जनवरी, मध्यप्रदेश में सात जनवरी और राजस्थान विधानसभा का कार्यकाल का आखिरी दिन 20 जनवरी 2019 है. वहीं जब रावत से सवाल किया गया कि चार विधानसभाओं और लोकसभा चुनाव एक साथ कराए जाते हैं तो क्या मशीनें तैयार रहेंगी जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि ईवीएम सितंबर के अंत तक तैयार हो जाएंगी जबकि वीवीपैट मशीनें नवंबर महीने के आखिर तक आ जाएंगी. 

यह भी पढ़ें- One Nation One Election पर बोले CEC ओपी रावत- 2019 में लोकसभा और 11 राज्यों के विधानसभा चुनाव के लिए नहीं हैं VVPAT

One Nation One Election पर सीएम नीतीश कुमार बोले- लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ संभव नहीं

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App