नई दिल्ली. भाजपा-एनडीए ने लोकसभा चुनाव 2019 में एक बड़ी जीत हासिल की है.  एनडीए की बड़ी जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीजेपी मुख्यालय पहुंच चुके हैं. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने वहां प्रधानमंत्री का स्वागत किया. पीएम मोदी पर फूल बरसा कर उनका स्वागत किया गया. बीजेपी मुख्यालय में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, शिवराज सिंह चौहान, रामलाल समेत बीजेपी के सभी वरिष्ठ नेता मौजूद हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसे ही कार्यकर्ताओं को संबोधित करने आए सभी कार्यकर्ता मोदी-मोदी के नारे लगाने लगे. पीएम मोदी ने संबोधन की शुरुआत करते हुए कहा, “2019 लोकसभा चुनाव का जनादेश नए भारत का जनादेश है. आज हम देख रहे हैं देश के कोटी-कोटी नागरिकों ने इस फकीर की झोली को भर दिया. मैं भारत के 130 करोड़ नागरिकों को सर झुकाकर नमन करता हूं. लोकतांत्रिक विश्व में 2019 का ये जो मतदान का आंकड़ा है ये अपने आप में लोकतांत्रिक विश्व के इतिहास की सबसे बड़ी घटना है. देश आजाद हुआ, इतने लोकसभा के चुनाव हुए लेकिन आजादी के बाद सबसे अधिक मतदान इस चुनाव में हुआ और वो भी 40-42 डिग्री गर्मी के बीच में. ये अपने आप में भारत के मतदाताओं की जागरुकता, लोकतंत्र के प्रति भारत की प्रतिबद्धता पूरे विश्व को इस बात को रजिस्टर करना होगा. पूरे विश्व को भारत की लोकतांत्रिक शक्ति को पहचानना होगा. ” PM मोदी ने चुनाव आयोग को बेहतर तरीके से चुनाव कराने के लिए धन्यवाद दिया.

PM ने भगवान श्री कृष्ण का जिक्र करते हुए कहा, ” जब श्री कृष्ण से पूछा गया कि आप किसके पक्ष में हैं तो उन्होंने कहा मैं तो सिर्फ हस्तिनापुर के पक्ष में हूं. इस चुनाव में भारत की जनता ने श्री कृष्ण की तरह जवाब दिया.” मोदी ने कहा ये चुनाव देश की जनता लड़ रही थी. मोदी ने विरोधियों पर तंज कसते हुए कहा,” जिनके आंख-कान बंद थे उन्हें ये बात समझ नहीं आई लेकिन आज भारत की जनता ने उन्हें ये बात समझा दी है. इसलिए अगर कोई विजयी हुआ है तो जनता जनार्दन विजयी हुई है, लोकतंत्र विजयी हुई है. इसलिए हम सभी एनडीए के साथी इस विजय को जनता जनार्दन के चरणों में समर्पित करते हैं. इस लोकसभा के चुनाव में जो विजयी हुए हैं उन सभी विजेताओं को मैं दिल से बधाई देता हूं. चाहे वो किसी भी दल से आए हों लेकिन देश के उज्जवल भविष्य के लिए सभी जीते हुए प्रतिनिधि आने वाले दिनों में देश की सेवा करेंगे इस विश्वास के साथ मैं उन सबको शुभकामनाएं देता हूं. चार राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं. जो जहां जीते हैं उनका मैं अभिनंदन करता हूं और उन्हें यह विश्वास दिलाता हूं कि बीजेपी संविधान और फेडरलिज्म पर विश्वास करती है. इसलिए मैं विश्वास दिलाता हूं कि केंद्र सरकार उन राज्यों के विकास में कंधे से कंधा मिलाकर चलेंगे.” PM ने बीजेपी के कार्यकर्ताओं को धन्यवाद दिया.

दो से दोबारा की यात्रा में हम विचलित नहीं हुए
PM ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, “हम कभी दो हो गए तो भी अपने आदर्शों से विचलित नहीं हुए. और आज दोबारा आ गए. दो से दोबारा की यात्रा में कई उतार-चढ़ाव आए लेकिन हमने अपने संघर्षों को नहीं छोड़ा. यहीं भारतीय जनता पार्टी की विशेषता है.” PM मोदी ने चुनाव नतीजों के बारे में कहा,” आज मैं व्यस्त था तो चुनाव के परिणाम भी ठीक से नहीं देख पाया कि कहां क्या हुआ है. लेकिन अध्यक्ष जी ने विस्तार से बताया. मैं रात में समय निकालकर देखूंगा कि कहां क्या हुआ. लेकिन अध्यक्ष जी ने जो बताया उससे सिद्ध हो गया है कि यह 21वीं सदी का भारत है. ये मोदी की नहीं इमानदारी की जीत है. ये 21वीं सदी के सपने को लेकर चल रहे नौजवान की विजय है.” 

सेकुलरिज्म पर तंज कसते हुए मोदी ने कहा, ” एक जमात थी जो कुछ भी करे एक पट्टा अपने आगे लगा लेता था वो पट्टा था सेकुलरिज्म का. इस पांच साल में कोई राजनीतिक दल इस नकाब के पीछे छिपने की हिम्मत नहीं कर सका. हमने इस छद्म नकाब को नोंच फेंका है. ”

मंहगाई और भ्रष्टाचार पर बोलते हुए मोदी ने कहा,” यह पहला चुनाव था कि पांच साल बीत गए लेकिन मंहगाई के मुद्दे पर चुनाव नहीं हुआ. ये भी पहली ही बार हुआ कि एक सरकार ने अपना कार्यकाल पूरा कर लिया लेकिन उस पर भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा. भारत के उज्जवल भविष्य के लिए देश की जनता ने एक नया नेरेटिव देश के सामने रख दिया है. अब इस देश में  सिर्फ दो जाति ही बची है. दो ही जाति रहने वाली है. ये जाति के नाम पर खेल खेलने वाले लोगों पर बहुत बड़ा प्रहार है यह चुनाव. अब 21वीं सदी में भारत की एक जाति है गरीब और दूसरी जाति है देश को गरीबी से मुक्त कराने के लिए कुछ न कुछ मदद करने वाले लोग. यहीं दो जातियों बचेंगी. गरीबी के कलंक को हमें देश से मिटाना है. इस सपने को लेकर हमें चलना है. ”

सरकार बहुमत से लेकिन देश जनमत से
मोदी ने कहा भारत महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगांठ मनाने जा रहा है. मोदी ने कहा,”इस परिणाम को हम नम्रता से स्वीकारते हैं. सरकार तो बहुमत से बनती है और जनता ने बना दी. लेकिन लोकतंत्र की भावना हमें यह संदेश देता है कि सरकार भले बहुमत से चलता हो देश जनमत से चलता है. इसलिए चुनाव में क्या हुआ, किसने क्या बोला ये सब मैं भूल चुका हूं. हमें साथ मिलकर चलना है. देश ने हमें बहुत दिया है. मैं देशवासियों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि आपने इस फकीर की झोली तो भर दी . बड़ी आशा-अपेक्षा के साथ भरी है मैं जानता हूं. मैं इसकी गंभीरता समझता हूं. मैं देश को कहूंगा कि आपने 2014 में मुझे ज्यादा जानते नहीं थे लेकिन भरोसा किया. 2019 में आपने मुझे ज्यादा जानने के बाद और ज्यादा भरोसा जताया. भरोसा जैसे बढ़ता है जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ती है.

बदइरादे और बदनीयती से कोई काम नहीं
मैं देशवासियों को कहना चाहूंगा आपने फिर से जो मुझे काम दिया है आने वाले दिनों में मैं बदइरादे,बदनीयती से कोई काम नहीं करूंगा. काम करते-करते गलती हो सकती है लेकिन बदनीयती से कोई काम नहीं करूंगा. मैं देशवासियों से कहूंगा कि मैं मेरे लिए कुछ नहीं करूंगा. मैं सार्वजनिक रूप से कहना चाहूंगा मेरे समया का पल-पल मेरे शरीर का कण-कण सिर्फऔर सिर्फ देशवासियों के लिए है. कभी कोई कमी रह जाए तो मुझे कोसते रहना लेकिन मैं देशवासियों को विश्वास दिलाता हूं कि मैं सार्वजनिक रूप से जो बातें करता हूं उन्हें जीने की पूरी कोशिश करता हूं.”

इससे पहले बीजेपी मुख्यालय में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया का सबसे लोकप्रिय नेता बताया. अमित शाह ने अपने संबोधन में कहा, “यह विजय देश की जनता की विजय है, यह पार्टी के 11 करोड़ कार्यकर्ताओं की विजय है. ये मोदी सरकार की सबका साथ, सबका विकास की नीति की विजय है. ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता की विजय है.” अमित शाह ने गठबंधन की राजनीति पर तंज कसते हुए कहा,” हमारे खिलाफ कई तरह के गठबंधन बने, मैंने तब भी पार्टी कार्यकर्ताओं को कहा था कि 50 फीसदी की लड़ाई के लिए तैयार हो जाएं. आज देश की 17 राज्यों में देश की जनता ने हमें 50 फीसदी से ज्यादा प्यार दिया है.” शाह ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि देश की 17 राज्यों में हमारा विपक्षी दल खाता भी नहीं खोल पाया. इस जीत ने एक बात और तय कर दिया है कि 50 साल से कांग्रेस और विपक्षी पार्टियां परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टिकरण की राजनीति करते आए. लेकिन देश की जनता ने ऐसी राजनीति को हमेशा के लिए खत्म कर दिया”

बंगाल पर जब अमित शाह ने बोलना शुरू किया तो पार्टी कार्यकर्ताओं ने खूब शोर मचाया. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, “बंगाल में इतने झूठ और अत्याचार के बावजूद बीजपी ने 18 लोकसभा सीटों पर कामयाबी दर्ज की है. ये जीत बताती है कि बीजेपी जल्द ही पूरे बंगाल में आने वाली है. ये जीत बताती है कि टुकड़े-टुकड़े गैंग की विचारधारा के खिलाफ राष्ट्रवाद की विचारधारा की विजय है.”