नई दिल्ली: मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की अगुवाई में बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की दिल्ली में बैठक हुई. इस बैठक में बीजेपी शासित 15 राज्यों के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्रियों ने शिरकत की.

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले बीजेपी नेताओं की इस बैठक को काफी अहम मान जा रहा है. लोकसभा चुनावों से इतर साल के अंत में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मिजोरम में विधानसभा चुनाव भी होना है. इन चार राज्यों में से तीन राज्यों में बीजेपी की सरकार है जबकि सिर्फ मिजोरम में कांग्रेस की सरकार है.

पिछले विधानसभा और लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव को देखते हुए बीजेपी के लिए चारों राज्यों में जीत दर्ज करना बेहद जरूरी है ताकि लोकसभा चुनाव में नेता पूरे उत्साह के साथ उतर सकें.

यही वजह है कि बीजेपी आलाकमान ने चार राज्यों की विधानसभा और अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों को लेकर अभी से मंथन शुरू कर दिया है. तीन राज्यों में बीजेपी के लिए एंटी इनकमबेंसी है, ऐसे में बीजेपी की चिंता जायज भी है क्योंकि पार्टी विधानसभा चुनावों की हार के साथ लोकसभा चुनाव का सामना नहीं करना चाहेगी और इन तीन राज्यों में फिर से जीत दर्ज करने के लिए बीजेपी को पूरा जोर लगाना होगा.

सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में बीजेपी आलाकमान ने मुख्यमंत्रियों के साथ राज्य में बीजेपी की स्थिति को लेकर मंथन किया साथ ही उन्हें आगामी चुनाव के लिए जरूरी दिशानिर्देश भी दिए.

CM ममता बनर्जी ने हार्दिक पटेल को भेजी राखी, क्या इसके पीछे 2019 लोकसभा चुनाव का गणित छुपा है?

चुनाव आयोग ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले इलेक्शन रिफॉर्म पर 27 अगस्त को बुलाई सर्वदलीय बैठक