नई दिल्ली. Congress BSP Attacks EC: पश्चिम बंगाल में बीते दिनों बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैली पर हमले के बाद चुनावी सरगर्मियां काफी बढ़ गई हैं. इस मामले में चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए चुनाव प्रचार पर तय समय से पहले रोक लगा ही है. अब चुनाव आयोग के इस कदम की बीएसपी सुप्रीमो मायावती और कांग्रेस ने कड़ी आलोचना की है और कहा है कि चुनाव आयोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के हाथों की कठपुतली बन गया है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि चुनाव प्रचार पर रोक का फैसला संविधान के खिलाफ है.

गुरुवार सुबह प्रेस कॉन्फ्रेंस में बसपा चीफ मायावती ने कहा कि आज यानी गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी की पश्चिम बंगाल में दो रैलियां हैं, प्रचार पर सुबह से बैन क्यों नहीं लगाया गया. यहां बता हूं कि लोकसभा चुनाव के सातवें चरण का चुनाव 19 मई को है. इसके मद्देनजर चुनाव प्रचार पर 17 तारीख की रात से रोक लगती, लेकिन पश्चिम बंगाल में चुनावी हिंसा के बाद चुनाव आयोग ने 16 मई को रात 10 बजे से चुनार प्रचार पर रोक लगा दी है.

मायावती ने चुनाव आयोग पर आरोप लगाया कि वह मोदी सरकार के दबाव में काम कर रहा है. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में प्रचार पर गुरुवार रात 10 बजे से प्रतिबंध लगाया है, क्योंकि प्रधानमंत्री की दिन के वक्त दो रैलियां हैं, अगर उन्हें प्रतिबंध लगाना ही था, तो आज सुबह से ही क्यों नहीं? मायावती ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार को परेशान करने के लिए ऐसा किया जा रहा है जो कि भेदभावपूर्ण है.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मौजूदा समय में जब अमित शाह और नरेंद्र मोदी सीधे प्रजातंत्र पर हमले कर रहे हैं तो चुनाव आयोग डरा-थका दिखाई दे रहा है. चुनाव आयोग अपनी शाख खो चुका है. ऐसा लगता है कि चुनाव आयोग का ये आदेश मोदी जी के लिए पार्टी गिफ्ट है. रणदीप सुरजेवाला कहा कि चुनाव आचार संहिता अब मोदी प्रचार संहिता है और चुनाव आयोग मूकदर्शक बना हुआ है. उन्होंने कहा कि अब देश के लोग चुनाव आयोग की भूमिका पर सवाल उठा रहे हैं.

मालूम हो कि लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें चरण की वोटिंग से पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान चुनावी हिंसा के बादचुनाव आयोग ने सख्त कदम उठाते हुए 16 मई 2019 गुरुवार रात 10 बजे से किसी भी तरह के चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है. इसके साथ ही पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव और मुख्य सचिव की छुट्टी कर ही है. बंगाल के हिंसा भरे चुनावी माहौल को देखते हुए आयोग ने 19 घंटे पहले ही चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है.

Mayawati BSP Alliance With BJP: बसपा सुप्रीमो के पूर्व सहयोगी नसीमुद्दीन सिद्दीकी का दावा, लोकसभा चुनाव 2019 परिणाम के बाद भाजपा से हाथ मिलाएंगी मायावती

EC Orders Twitter on Exit Polls 2019: चुनाव आयोग ने दिए ट्विटर इंडिया को आदेश, लोकसभा चुनाव 2019 एग्जिट पोल से जुड़े सभी ट्वीट्स हटाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App