नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के नंबर 1 शो फैमिली गुरु में गणपति उत्सव के मौके पर कई उपाय के बारे में बताया है जो आपके सभी दुखों को दूर कर देंगे. किसी भी शुभ की शुरुआत करने से पहले गणपति जी का नाम लेने से सभी काम मंगल मय होते हैं.

पहला महाउपाय- क्या आपका प्रमोशन नहीं हो रहा. वर्किंग प्लेस पर किसी भी भाग में वक्रतुण्ड की प्रतिमा या चित्र लगाए. लेकिन यह ध्यान जरूर रखना चाहिए कि किसी भी स्थिति में गणपति का मुख दक्षिण दिशा या नैऋय कोण में नहीं होना चाहिए.

दूसरा महाउपाय- क्या घर के लोगों के बीच प्यार नहीं है. तो आप भी गणेश चतुर्थी का महाउपाय कीजिए. मंगल मूर्ति को मोदक और उनका वाहन मूषक अतिप्रिय है. इसलिए मूर्ति स्थापित करने से पहले ध्यान रखें कि मूर्ति या चित्र में मोदक या लड्डू और चूहा जरूर होना चाहिए. सबको बांट कर मोदक खाएं. घर के लोगों में प्यार बढ़ेगा.

तीसरा महाउपाय- क्या जहां हाथ डालते हैं घाटा हो जाता है. मुनाफा नहीं होता. तो गणेश चतुर्थी पर तीसरा महाउपाय कीजिए. गणेश जी की मूर्ति स्थापना भवन या वर्किंग प्लेस के ब्रह्म स्थान यानी केंद्र में करें. ईशान कोण और पूर्व दिशा में सुखकर्ता की मूर्ति या चित्र लगाना शुभ रहता है.

चौथा महाउपाय- क्या घर में दिक्कते खत्म नहीं हो रही. वास्तु दोष से परेशान हैं. तो आज यानि गणेश चतुर्थी के दिन चौथा महाउपाय जरुर कीजिए. यदि घर के मुख्य द्वार पर एकदंत की प्रतिमा या चित्र लगाया गया हो तो उसके दूसरी तरफ ठीक उसी जगह पर दोनों गणेशजी की पीठ मिली रहे इस प्रकार से दूसरी प्रतिमा या चित्र लगाने से वास्तु दोषों समाप्त होता है.

पांचवा महाउपाय- क्या घर में नेगिटिव एनर्जी आ जाती है. तो गणेश चतुर्थी के दिन नेगिविट एनर्जी को भगाने वाला महाउपायकीजिए. घर के मुख्य द्वार पर गणेश जी की बैठी हुई प्रतिमा लगानी चाहिए लेकिन उसका आकार 11 अंगुल से अधिक नहीं होना चाहिए

गणेश चतुर्थी 2018: जानिए उन मंदिरों के बारे में जहां होती गणेशजी के स्त्री अवतार की पूजा

फैमिली गुरु: गणेश चतुर्थी पर ये पांच उपाय दूर करेंगे पैसों की तंगी

फैमिली गुरु: हरतालिका तीज पर ये पांच उपाय दूर करेंगे लव मैरिज में आ रही अड़चन

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App