नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास शो फैमिली गुरु में सावन के महीने में भगवान शिव और विष्णु की कहानी के बारे में बताया है. कहा जाता है कि सावन में भगवान विष्णु सारी जिम्मेदारियों से मुक्त होकर अपने दिव्य भवन पाताललोक में विश्राम करने के लिए निकल जाते हैं और अपना सारा काम महादेव को सौंप देते है.

भगवान शिव पार्वती के साथ पृथ्वी लोक पर विराजमान रहकर पृथ्वी वासियों के दुःख-दर्द को समझते है एवं उनकी मनोकामनाओं को पूरा करते हैं. इसलिए सावन क महीना बहुत ज्यादा अहम है. महादेव को सावन सबसे प्रिय महीना लगता है क्योंकि श्रावण मास में सबसे ज्यादा वर्षा होने के आसार रहते हैं, जो शिव के गर्म शरीर को ठंडक प्रदान करता है. जिसकी वजह से लोक कल्याण के लिए विष को ग्रहण करने वाले देवों के देव महादेव को ठण्डक और सुकून मिलता है. शायद यही कारण है कि शिव का सावन से इतना गहरा लगाव है. पुराणों और धर्मग्रंथों के अनुसार भोले बाबा की पूजा के लिए सावन के महीने की महिमा का सबसे ज्यादा महत्व है. इस महीने में में ही पार्वती ने शिव की घोर तपस्या की थी और शिव ने उन्हें दर्शन भी इसी महीने में दिए थे. तब से भक्तों का विश्वास है कि इस महीने में शिवजी की तपस्या और पूजा पाठ से शिवजी जल्द प्रसन्न होते हैं और जीवन सफल बनाते हैं.

सावन महीने के हर सोमवार को शिव की पूजा करनी चाहिए. इस दिन व्रत रखने और भगवान शिव के ध्यान से विशेष लाभ प्राप्त किया जा सकता है। यह व्रत भगवान शिव की प्रसन्नता के लिए किये जाते हैं. व्रत में भगवान शिव का पूजन करके एक समय ही भोजन किया जाता है. साथ ही साथ गले में गौरी-शंकर रूद्राक्ष धारण करना भी शुभ रहता है

फैमिली गुरु: इन पांच महाउपाय से दूर होगा लंबे समय का दर्द साथ ही मिलेगी पापो से मुक्ति

फैमिली गुरु: फिगर के हिसाब से महिलाएं चुनेंगी साड़ी तो लगेंगी बेहद खूबसूरत

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App