नई दिल्ली: कार्तिक पूर्णिमा का दिन आ गया है ये दिन बहुत शुभ होता है. इस दिन आपको क्या करना है कैसे करना है. हर दिन की तरह आपको जरुरी जानकारी देंगी फैमिली गुरु जय मदान. सबसे पहले कार्तिक पूर्णिमा पर लक्ष्मी जी की कृपा दिलाने वाले उपाय. पूर्णिमा पर कौन से उपाय करने हैं वो भी जानेंगे और आज चांद की बात होगी इसलिए आपको चांद वाला स्पेशल मेकअप भी बताया जाएगा. आज कार्तिक पूर्णिमा है ये बहुत विशेष दिन होता है. इस दिन का बहुत महत्व है. 
 
वैशाख, माघ और कार्तिक माह की पूर्णिमा स्नान-दान के लिए श्रेष्ठ मानी गई है. इस पूर्णिमा में नदी या अपने स्नान करने वाले जल में थोड़ा सा गंगा जल मिलाकर स्नान करना चाहिए फिर भगवान विष्णु का विधिवत पूजन व अर्चज करना चाहिए. पूरे दिन उपवास रखकर एक समय भोजन करना चाहिए. इस दिन पूरे दिन उपवास रखकर एक समय भोजन करना चाहिए. अपनी हिम्मत के मुताबिक गाय का दूध, केला, खजूर, नारियल, अमरूद आदि फलों का दान करना चाहिए. जरुरतमंद, बहन, बुआ आदि को कार्तिक पूर्णिमा के दिन दान करने से अक्षय पुण्य मिलता है. शाम के समय मन्त्र से चंद्रमा को अर्ध्य दें… मंत्र है. वसंतबान्धव विभो शीतांशो स्वस्ति नः कुरू” .
 
कैसे करें कार्तिक पूर्णिमा में गंगा स्नान:
 
कार्तिक पूर्णिमा की स्नान के सम्बन्ध में लिखा गया है कि इस दिन सबसे पहले हाथ-पैर धो लें फिर आचमन करके हाथ में कुशा लेकर स्नान करें. यदि स्नान में कुश और दान करते समय हाथ में जल व जप करते समय संख्या का संकल्प नहीं किया जाये तो कर्म फलों से सम्पूर्ण पुण्य की प्राप्ति नहीं होती है. दान देते समय हाथ में जल लेकर ही दान करें.
 
स्नान करने से मिलेगा असीम पुण्य
गृहस्थ को भी तिल या ऑवले का चूर्ण लगाकर स्नान करने से असीम पुण्य मिलता है. जिसके पति ना हो या फिर सन्यासियों को तुलसी के पौधे की जड़ में लगी मिट्टी को लगाकर स्नान करना चाहिए. इस दौरान भगवान विष्णु के ऊं अच्युताय नमः, ऊं केशवाय नमः, ऊॅ अनंताय नमः मन्त्रों का जाप करना चाहिए.
 

कार्तिक पूर्णिमा 2017: गंगा स्नान महत्व और पूजा विधि