नई दिल्ली: कहते हैं ना अगर घर में सही बहु आ जाए तो दो घर संवर जाते हैं. तो आज आपको मायके और ससुराल दोनों को संवारने वाली बहु की बहु की बात करेंगे. वो बहु जो शुभ होगी. वो पत्नी जो हमेशा अच्छी पत्नी साबित होगी. आज आपको बताएंगे कि कैसे मिलेगी शुभ बहु. वो क्या तरीका है वो कौन से उपाय हैं जिन्हें करने से शुभ बहु मिलेगी. साथ में उंगली के आकार और चेहरे पर तिल से शुभ बहु और अच्छी पत्नी पहचानने के लक्षण बताएंगे कि आप कैसे बन सकती हैं वो पत्नी वो बहु जिसे हर कोई पसंद करेगा.
 
आप सोच रहे होंगे ये कैसे पता चलेगा कौन सी लड़की अच्छी बहु या शुभ बहु साबित होगी. जो लक्षण हम बता रहे हैं अगर वो लड़की में हैं तो समझिए आने वाले वक्त में उसके जीवन में खुशियां आएंगी और उस लड़की की किस्मत से उसके ससुराल में भी तरक्की होगी. जिनकी आंखें हिरनी के जैसे और लालिमा लिए होती है वह बड़ी भाग्य शाली और सुख भोग पाने वाली होती हैं. जिनकी जीभ लाल और कोमल हो वह खुद तो सुख भोगती ही है उनके पर‌िवार वाले भी सुख भोगने वाले होते हैं. 
 
गोल और लंबी उंगलियों वाली महिलाएं बहुत सौभाग्यशाली होती हैं. शादी के बाद यह अपने पति के जीवन में बहार लेकर आती हैं. जिन महिलाओं की चिकनी, गांठ रहित और सीधी उंगलीयां होती हैं उनकी शादीशुदा जिंदगी बहुत अच्छी होती है.  लेकिन पति उनमें कोई न कोई खूबी ढूढ लेते हैं और उनके गुलाम बनकर रह जाते हैं. छोटी उंगलियों वाली महिलाएं खर्चीले स्वभाव की होती हैं. 
 
पहला महाउपाय 
आज के पहले महाउपाय की बात करते हैं. क्या आपको पैसे की तंगी है तो आपको शुक्रवार की रात को अष्ट लक्ष्मी साधना करें. खजाने के देवता कुबेर के समान आपको धन मिलेगा. क्या आपको पैसे की तंगी है ? शुक्रवार की रात अष्ट लक्ष्मी साधना करें तंगी दूर हो जाएगी.
 
दूसरा महाउपाय 
क्या घर में लक्ष्मी प्रवेश नहीं होती है तो सूरज ढलने के बाद मेनगेट के दाएं और बाएं तरफ गाय के घी का दीपक लगाएं। घर में पॉजिटिव एनर्जी आएगी। घर में देवी लक्ष्मी का भी प्रवेश करती हैं. क्या घर में लक्ष्मी प्रवेश नहीं होता ? सूर्यास्त के बाद मेनगेट के दोनों तरफ दीपक लगाएं. घर में पॉजिटिव एनर्जी आएगी. घर में देवी लक्ष्मी प्रवेश करेंगी. 
 
तीसरा महाउपाय 
शनिदेव और राहू-केतू के बुरे प्रभाव से परेशान है तो शनिदेव और राहू-केतू के शुभ प्रभाव प्राप्त करने के लिए, घर के पास स्थित पीपल के पेड़ पर शुक्रवार और रविवार को छोड़कर दीप दान करें. मतलब हफ्ते में 7 दिन करना है. 
 
चौथा महाउपाय
घर में नेगेटिव एनर्जी है तो घर की चारों दिशाओं से नेगेटिविटी और अंधकार खत्म करने के लिए छत पर तिल के तेल का दीपक जलाए. सारी नेगेटिविटी एनर्जी चली जाएगी. 
 
पांचवां महाउपाय 
आपके मेनगेट पर वास्तु दोष है तो हरेक पूर्णिमा पर सुबह के समय घर के मुख्य दरवाज़े पर आम के ताजे पत्तों से बनाया हुआ तोरण अवश्य ही बांधें, इससे भी घर में शुभता का वातावरण बनता है.