नई दिल्ली. नवरात्र के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है. ब्रह्म का अर्थ होता है तपस्या और चारिणी का अर्थ आचरण करने वाली होता है. अर्थात ब्रह्मचारिणी मां के नाम का अर्थ हुआ तप का आचरण करने वाली.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मां को प्रसन्न करने पर भक्तों के अंदर तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की वृद्धि होती है. मां के आशीर्वाद से इंसान को अपना कर्तव्य निभाने के लिए शक्ति प्राप्त होती है.
 
इंडिया न्यूज़ के खास कार्यक्रम फैमिली गुरु में फैमिली गुरु जय मदान आपको बताएंगी ब्रह्मचारिणी मां को प्रसन्न करने के उपाय.