बॉलीवुड डेस्क, मुंबई. फिल्म पानीपत पीरियड ड्रामा फिल्म है,जो पानीपत की तीसरी लड़ाई के कहानी पर आधारित है. लेकिन ये लड़ाई सिर्फ अस्त्रों-शस्त्रों की लड़ाई नहीं थी, बल्कि यह एक राजनैतिक लड़ाई थी. इस लड़ाई में मराठाओं को ऐसी हार का सामना करना पड़ा जो इतिहास के पन्नों पर अंकित हो गया.

 पानीपत की लड़ाई कब और किसके बीच हुई-

इतिहास में पानीपत के मैदान में तीन बार युद्ध हुए. पानीपत की पहली लड़ाई 21 अप्रैल 1526 में हुई. ये लड़ाई दिल्ली के सुल्लतान इब्राहिम लोधीऔर तैमूरी शासक ज़हीर उद्दीन मोहम्मद बाबर के बीच हुई थी.इस पहली लड़ाई में बाबर की सेना ने इब्राहिम लोधी की एक बहुत बड़ी सेना को हरा दिया. इसके बाद पानीपत की दूसरी लड़ाई 5 नवंबर 1556 को अकबर और हिंदू राजा हेमू के बीच हुई थी.

इसके बाद पानीपत की तीसरी लड़ाई 14 जनवरी 1761 में मराठाओं और अफगानिस्तान के सुल्तान अहमद शाह अब्दाली के बीच हुई. हालांकि इस लड़ाई को अस्त्र-शस्त्र की लड़ाई से ज्यादा राजनैतिक लड़ाई कहा जाता है. 

आखिर क्यों हुई पानीपत की तीसरी लड़ाई

पानीपत की तीसरी लड़ाई बहुत ही भयावह थी. बताया जाता है कि इस लड़ाई में 40 हजार से अधिक मराठा सैनिकों की मृत्यु हो गई. अफगानिस्तान के शासक और दुर्गानी साम्राज्य के शासक अहमद शाह अब्दाली ने कई बार भारत में आकम्रण किया. लेकिन जब उसने मराठाओं के साथ युद्ध करने की ठानी तो, इसमें अब्दाली का साथ अवध के नवाब सुजाउद्दौला और रोहिल्ला सरदार नजीब उददोला सहित पूरे उत्तर भारत के शासकों ने दिया. सभी ने साथ मिलकर मराठा साम्राज्य पर आक्रमण किया.

एक तरफ जहां अब्दाली के साथ इस्लाम के नाम पर मुसलमान एकजुट हो गए थे वहीं दूसरी और किसी भी हिंदू शासक ने इस लड़ाई में मराठाओं का साथ नहीं दिया. क्योंकि मराठा शासकों ने पूरे उत्तर भारत में लूट मचा रखी थी. उनकी इसी नीति के कारण किसी भी हिंदू शासक ने उनकी मदद नहीं की. और आखिरकार मराठा साम्राज्य बुरी तरह से हार गया.

बालाजी बाजी राव जिन्हें नाना साहेब कहा जाता है. वे मराठा साम्राज्य के पेशवा थे. बालाजी बाजी राव ने अहमद शाह अब्दाली से लड़ने के लिए सदाशिव राव भाऊ को चुना. दूसरी और इस युद्ध के लिए बालाजी बाजी राव ने रघुनाथ राव और महादजी सिंधिया जैसे अनुभवी सेनापति का नाम ना चुनकर सदाशिव राव भाऊ को इस युद्ध की अनुमति दी. क्योंकि वे उस वक्त मराठा साम्राज्य के ताकतवर सेनापति के रूप में जाने जाते थे. लेकन सदाशिव को उत्तर भारत में लड़ने का कोई अनुभव नहीं था. नाना साहेब की इस फैसले के कारण मराठा पानीपत की तीसरी लड़ाई में हार गए और लगभग 40 हजार मराठा सैनिकों ने अपनी बलि दे दी.

पानीपत फिल्म के बारे में-

अब पानीपत की तीसरी लड़ाई की इसी ऐतिहासिक कहानी के आधार पर निर्देशक आशुतोष गोवारिकर ने फिल्म बनाई है. हालांकि इससे पहले आशुतोष जोधा अकबर जैसी ऐतिहासिक फिल्म बना चुके हैं. बात करें फिल्म पानीपत की तो, यह अगले महीने 6 दिसंबर 2019 को बड़े पर्दे पर रिलीज हो रही है. फिल्म के कई पोस्टर्स, गाने और ट्रेलर रिलीज हो चुके हैं. फिल्म में संजय दत्त अहमद शाह अब्दाली, अर्जुन कपूर सदाशिव राव भाऊ, कृति सैनन पार्वती बाई, पद्मिनी कोल्हापुरे गोपिका बाई और मोहनीश बहल बालाजी बाजी राव के किरदार में नजर आएंगे.

Also Read:

Who Is Ahmad Shah Abdali Panipat: जानिए कौन थे अहमद शाह अब्दाली जिनके किरदार में नजर आएंगे संजय दत्त, पानीपत की लड़ाई में क्या थी उनकी भूमिका

Panipat Song Mard Maratha Teaser Released: अर्जुन कपूर, कृति सैनन, संजय दत्त की फिल्म पानीपत के पहले गाने मर्द मराठा का टीजर जारी, कल 12 नवंबर को सॉन्ग रिलीज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App