नई दिल्ली. फिल्म राम की जन्मभूमि रिलीज से पहले विवादों में घिर गई है. सनोज मिश्रा द्वारा निर्देशित फिल्म राम की जन्मभूमि 29 मार्च को रिलीज होनी है. फिल्म की रिलीज को रोकने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर गुरुवार को सुनवाई की गई.

फिल्म राम की जन्मभूमि की रिलीज पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल रोक नहीं लगाई है. सुप्रीम कोर्ट ने जल्द सुनवाई से भी इनकार कर दिया है. ये फिल्म शुक्रवार को रिलीज होनी है. सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान वकील लिली थॉमस ने फिल्म की रिलीज रोकने की मांग की. वकील लिली थॉमस ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि अभी इस राम जन्मभूमि को लेकर मध्यस्थता चल रही है अगर फिल्म रिलीज होती है तो इस पर असर पड़ेगा.

लिली थॉमस के तर्क पर सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर मामले को मध्यस्थता के जरिये हल होना होगा तो हो जाएगा. फिल्म का इससे कुछ लेना देना नही है. उन्होंने कहा कि अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद अगर मध्यस्थता से हल होना होगा तो हो जाएगा. बता दें कि फिल्म के प्रोड्यूसर और लेखक शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी है. फिल्म के एसोसिएट डायरेक्टर विकास कुमार सिंह हैं. फिल्म में मनोज जोशी और गोविंद नामदेव नजर आएंगे. कहा जा रहा है कि फिल्म राम मंदिर और हलाला के विवादास्पद मुद्दे से संबंधित है.

वहीं रामजन्मभूमि विवाद की बात करें तो सालों से अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद चल रहा है. मामला सुप्रीम कोर्ट में है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मामले की मध्यस्थता चल रही है. मध्यस्थथा कैमरे की निगरानी में है. साथ ही मीडिया को मध्यस्थता से दूर रखा गया है. यही कारण है कि फिल्म रिलीज पर भी रोक लगाने की याचिका दायर की गई ताकि मध्यस्थता पर किसी तरह का असर ना पड़े.

Ram Ki Janmabhoomi Film Controversy: फिल्म राम की जन्मभूमि पर छाए संकट के बादल, रिलीज रोकने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल

Sri Sri Ravi Shankar Ayodhya Ram Mandir Mediation: अयोध्या केस में मध्यस्थ श्री श्री रविशंकर कैसे रहेंगे निष्पक्ष, राम मंदिर बनाने के खुले समर्थक रहे हैं बाबा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर