मुंबई. लता मंगेशकर का पिछले 28 दिनों से मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में इलाज चल रहा था. लेकिन अब उनकी सेहत में सुधार है और वह इलाज के बाद अपने घर वापस लौट आईं है. उन्होंने ने बताया कि उन्हें न्यूमोनिया हो गया था, लेकिन अब वह ठीक है.

लता मंगेशकर ने ट्विटर पर लिखा है- नमस्कार.पिछले 28 दिनों से मैं ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में थी. मुझे न्यूमोनिया हुआ था. डॉक्टर चाहते थे की मैं पूरी तरह से ठीक हो जाऊं फिर घर जाऊं,आज मैं घर वापस आ गयी हूँ. ईश्वर, माई बाबा के आशीर्वाद और आप सब के प्यार,प्रार्थनाओं से मैं अब ठीक हूं. मैं आप सब की हृदयसे आभारी हूं.

घर आने की जानकारी देने के साथ ही लता दीदी ने ब्रीच कैंडी अस्पताल के डॉक्टरों का भी धन्यवाद किया और उन्हें फरिश्ता कहा. उन्होंने ट्विटर पर लिखा- मेरे ब्रीच कैंडी के डॉक्टर सच में फरिश्ते हैं. यहां का सभी कर्मचारी वर्ग भी बहुत अच्छा है. आप सब की मैं पुन: एक बार मन  से आभारी हूं. ये प्यार और आशीर्वाद ऐसे ही बना रहे.

जब लता दीदी की तबियत बिगड़ी थी तो देश-विदेश से सभी लोग सोशल मीडिया पर उनके सलामती और जल्दी स्वस्थ होने की कामना कर रहे थे. अब सभी के लिए खुशखबरी है कि लता दीदी पूरी तरह ठीक है और अस्पताल से डिस्चार्ज होकर अपने घर वापस लौट आई है. लता दीदी के ठीक होने की खबर सुनकर सभी काफी खुश है और ट्विटर पर उन्हें बधाई दे रहे हैं.

बता दें कि लता दीदी को सांस लेने मे तकलीफ हुई थी, जिसके बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लेकिन उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हो रहा था. पहले उन्हें आईसीयू में रखा गया फिर वेंटीलेटर पर. लेकिन डॉक्टर्स के इलाज और लोगों की दुआओं से लता दीदी की स्थिति में सुधार हुआ और आज वह स्वस्थ होकर अपने घर आ गई है.

लता मंगेशकर 90 साल की है और उन्होंने 60 सालों तक एक हजार से अधिक गीतों में अपनी आवाज दी. लता दीदी को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है.साल 2001 में उन्हें भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मान से सम्मानित किया गया.

Also Read:

Lata Mangeshkar Health Updates: लता मंगेशकर की सेहत में सुधार, जल्द हो सकतीं है हॉस्पिटल से डिस्चार्ज

Nawazuddin Siddiqui Sister Syama Tamshi Siddiqui Passes Away: नवाजुद्दीन सिद्दीकी की बहन सायमा तामसी सिद्दीकी का 26 साल की उम्र में निधन, 8 साल से कैंसर से लड़ रही थीं जंग