नई दिल्ली: करन की मां सरला के साथ मिलकर ये प्लान बनाती है कि वो मेंहदी के कार्यक्रम में जानकी को साथ लेकर आए कार्यक्रम में लगभग वो सब होंगे जो कुमकुम भाग्य में आग लगने के वक्त थे ऐसे में उस शख्स को पहचान लेगी और पता लग जाएगा कि आखिर कौन है जो उन दोनो घर का दुश्मन है.

प्रीता शॉपिंग माल से पृथ्वी के साथ बाहर निकलती है बाहर गरीब बच्चे प्रीता को फूल और बलून देते है और कहते है कि वो उसे दे जिसे वो प्यार करती है लेकिन पृथ्वी कहता है कि वो गंदे बच्चे हैं और उनके हाथ के फूल और गुब्बारे फेंक दे. पृथ्वी की बात मानकर वो उसे फेंक देती है. लेकिन वो गुब्बारा और फूल उड़ता हुई करन की गाड़ी में पहुंच जाता है और ऐसे दोनो का अंजान प्यार एक दुसरे से मिलता है.

पृथ्वी प्रीता से कहता है कि करन नही चाहता है कि उन दोनो की शादी हो और इसलिये वो बार बार पृथ्वी की बेज्जती करता है पृथ्वी कहता है कि प्रीता अब करन से सारे रिश्ते तोड़ दे. करन ऋषभ की थप्पड से काफी परेशान है वो ऋषभ से लड़ता है और कहता है कि वो बड़ा होने का फायदा उठा रहा है. ऋषभ उसे कहता है कि वो उसकी कसम खाता है कि वो जब तक पृथ्वी का पर्दा फाश नही कर देता आराम से नही बैठेगा. और इसी तरह करन और ऋषभ एक हो जाते हैं. पृथ्वी प्रीता को छोड़ने घर जाता है. प्रीता गाड़ी में भगवान से मनाती है कि पृथ्वी करन को उससे माफी मागने को ना कहे उसे याद आता है कि कैसे सरला ने पिछली बार करन को चांटा मारा था. और कैसे करन ने सिर्फ प्रीता के लिये पृथ्वी जैसे इंसान से माफी मांगे. वो सोचती है कि वो ऐसा क्या करे और कहे जिससे पृथ्वी करन से माफी ना मांगे. 

पृथ्वी प्रीता को घर छोड़ता है तो प्रीता उसे कहती है कि वो करन को माफ कर दे और सरला से वो करन के किये की कोई बात ना करे. वो कहती है ये सारी बात जानकर सरला का बीपी बढ़ जाएगा और बहुत परेशानी हो जाएगी. लेकिन पृथ्वी नही मानता है. इस पर प्रीता को गुस्सा आ जाता है और वो पृथ्वी पर गुस्सा आ जाता है. लेकिन अगले ही पल वो पृथ्वी से माफी मांगती है और पृथ्वी को सरला से सारी बात बताने से मना करती है लेकिन पृथ्वी नही मानता है जिससे प्रीता परेशान हो जाती है.