नई दिल्ली : संग्राम को चकमा दे किसी तरह दिशा पूरब को लेकर हॉस्पिटल पहुंचती है और वहां से अभि को फोन करती है और पूरब का हाल बताती है अभि दिशा की बात सुनकर घबरा जाता है और भाग कर हॉस्पिटल पहुंचता है. उधर संग्राम कसम लेता है कि वो पूरब को आज ही जान से मारेगा. डॉक्टर दीशा को कहता है कि पूरब बिलकुल ठीक है और वो जल्दी ठीक हो जाएगा. अभि और दिशा पूरब से मिलने जाते हैं जहां पूरब कहता है कि वो सिर्फ दिशा की वजह से ही जिंदा है. वो दोनो मिलकर पूरब को घर ले आते हैं. अभि दिशा को कहता है कि वो पूरब के सामने रोए मत लेकिन वो कहती है कि उसकी हालात सिर्फ उसी की वजह से है क्योंकि उसी को पाने के लिये संग्राम ने पूरब का ये हाल किया है. संग्राम दिशा को फोन करता है और उसे डराता है कि वो पूरब को मार के ही दम लेगा. 

फोन अभि ले लेता है और संग्राम को कहता है कि वो उसे उसके किये की सजा वो दिला के देगा, अभि कमिशनर से कहकर पूरे शहर में संग्राम के वान्टेड के पोस्टर लगवा देता है. जिससे संग्राम परेशान हो जाता है . घर वाले पूरब के कमरे में उसे देखने जाते है और उसे ठीक ठाक देख कर खुश हो जाते है. प्रज्ञा अभि तक पूरब को देखने नही आती है. दिशा पूरब को अपने हाथ से खाना खिलाती है जिससे पूरब खुश हो जाता है. वहीं खड़ा अभि पूरब से मजाक करता है कि दिशा की तारिफ दिशा के सामने ना करने के लिये कहता है. 

अचानक से प्रज्ञा भी घर आती है और पूरब के एक्सिडेंट की बात जानकर घबरा जाती है और घर वालों पर गुस्सा करती है कि क्यों किसी ने उसे एक्सिडेंट के बारे में क्यों नही बताया.कोई कुछ नही कहता है तो प्रज्ञा कहती है कि कोई उसे अपना नही मानता है इसलिये किसी ने उसे इतनी बड़ी बात बताना जरूरी नही समझा.लेकिन सब उसे कहते है कि उसे टेंशन ना हो इसलिये किसी ने उसे ये बात नही बताई. दिशा प्रज्ञा को समझाती है कि वो भी अभि को बता दे की वो ही प्रज्ञा है क्योंकि अभि की खुशी प्रज्ञा के साथ रहकर है. अब क्या इस वैलेनटाइन अभि को उसकी प्रज्ञा मिल जाएगी या फिर कोई दिक्कत इन दोनो के प्यार के बीच में आ जाएगी?