Sunday, September 25, 2022

हिंदी विवाद पर बोलीं कंगना, संस्कृत होनी चाह‍िए राष्ट्रीय भाषा

मुंबई, अक्सर विवादों में घिरी रहने वाली अभिनेत्री कंगना रनौत इस समय अपनी फिल्म धाकड़ को लेकर सुर्ख़ियों में बनी हुई हैं. कंगना की फ़िल्म का ट्रेलर लांच हो गया है. ट्रेलर लांच के वक़्त कंगना ने साऊथ बनाम बॉलीवुड इंडस्ट्री के बीच छिड़े भाषा विवाद पर भी अपनी राय रखी है. कंगना का कहना है कि संस्कृत को राष्ट्रीय भाषा होना चाहिए.

कंगना ने क्या कहा?

इन दिनों देश में भाषा विवाद छिड़ा हुआ है. बता दें कुछ दिनों पहले साउथ सुपरस्टार किच्चा ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि हिंदी अब राष्ट्र्रीय भाषा नहीं रह गई है. किच्चा के इस बयान पर अजय देवगन ने रिएक्ट करते हुए ट्वीट किया था और लिखा था कि हिंदी हमारी मातृभाषा और राष्ट्रीय भाषा थी,है और हमेशा रहेगी. बस फिर देर किस बात की, अजय देवगन ने ये ट्वीट किया और पूरी बॉलीवुड इंडस्ट्री में इस पर विवाद छिड़ गया. साउथ फिल्मों की तुलना बॉलीवुड हिंदी फिल्मों से होने लगी, अब भी ये विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब बॉलीवुड की धाकड़ गर्ल कंगना रनौत ने भी इस मुद्दे पर अपनी राय रखी है.

अभिनेत्री ने कहा- “हमारे देश में कई तरह के लोग हैं, सबका अपना एक कल्चर और अपनी एक मातृभाषा होती है. और व्यकितगत तौर पर हर कोई अपने कल्चर पर गर्व कर सकता है, लेकिन जैसे हमारा देश है, वह एक यूनिट है. हमें एक धागा चाहिए जो इसे चला सके, इसलिए हिंदी एक धागे के रूप में है. हम सभी को संविधान का सम्मान करना चाहिए, इसी संविधान ने हिंदी को राष्ट्रीय भाषा बनाया है. वैसे देखा जाए तो तमिल भाषा, हिंदी से भी पुरानी भाषा है और इन दोनों से भी पुरानी भाषा है संस्कृत. अगर आप मेरी राय मांगे तो मुझे लगता है कि राष्ट्रीय भाषा संस्कृत होनी चाहिए. क्योंकि सभी भाषाएं संस्कृत से ही आईं हैं.”

 

पटियाला जुलूस विवाद: पटियाला में जुलूस निकालने को लेकर आपस में भिड़े दो गुट, SHO समेत कई पुलिसवाले घायल

Latest news