नई दिल्ली. ड्रीम गर्ल के नाम से मशहूर बॅालीवुड अभिनेत्री और मथुरा से भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने दावा किया है कि हवन करने से कोरोना नहीं होता है. दरसल सोशल मीडिया पर उनका वीडियो वायरल हुआ है जिसमें वह सोफे पर बैठकर हवन करती हुई नजर आ रही हैं. वीडियो को लेकर अभिनेत्री ने कहा कि जब से कोरोना आया तब से मैं इसे रोज हवन करती हूं, रोज़ हवन करने से वातावरण भी शुद्ध होता है.” ये वीडियो देखने के बाद ही ट्विटर यूजर्स ने हेमा मालिनी पर ट्रोल कर दिया.

हेमा मालिनी ने कहा कि, ‘प्राचीन काल से ही भारत में हवन करने की प्रथा को लाभदायक एवं नकारात्मक शक्तियों को शुद्ध करने का सही उपाय माना गया हैं। आज पूरा विश्व महामारी और पर्यावरण के संकट को झेल रहा हैं, ऐसे में केवल पर्यावरण दिवस पर ही नहीं, बल्कि जब तक इस महामारी का अंत न हो जाए तब तक हर दिन हवन करें.’

एक ट्विटर यजूर ने लिखा कि कैंट आरओ की जगह घड़े का पानी पिया करें,एसी की जगह खुले वातावरण में सोया करें। या फिर ये सब नौटंकी बंद कर दें. वहां के लोगों की मदद करें जहां के लोगों ने आपको चुना है.

ट्विटर यूजर ने लिखा कि एक्टर कभी रिटायर नहीं होता है. वहीं दूसरे ने लिखा कि इन्हें मथुरा की जनता ने सेवा नहीं, हवन करने के लिए सांसद बनाया था. महीने का 5 लाख खर्चा मिलता है इनको हवन करने का. कैसे-कैसे मथुरा वालों ने चुन रखे हैं. बताइए, है जनता ही बेवकूफ या नहीं?

एक ने लिखा कि सारे नमूने भाजपा में ही मिलते हैं.  किसी औऱ ने लिखा हवन करना अच्छी बात है, लेकिन इतनी खतरनाक बीमारी मे हमें अन्धविश्वास में नहीं पड़ना चाहिये. क्योंकि अगर लोग हवन करने से बच सकते तो जो हजारों साधु-सन्त कोरोना में अपनी जाने गवायें हैं, वो नही मरते. अगर हवन से बचा जा सकता तो कोरोना होने पर राष्ट्रपति एम्स की शरण में नहीं जाते.

कृष्ण  सिंह ने लिखा कि सोफे पर बैठकर हवन. ये लोग हिंदुत्व के ठेकेदार बनकर जनता के वोट ले लेते हैं।मगर फिर बाद में उसी हिंदुत्व का मजाक भी बना देते हैं. खासकर बॉलीवुड के अधिकांश सेलेब्रेटी. सोफे पर बैठकर हवन कहीं से भी जायज नहीं है. मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूँ.

Twitter Controversy : सरकार और ट्विटर में फिर ठनी, ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू का ब्लू टिक हटाकर वापस लगाया, कई आरएसएस नेताओं का भी हटाया ब्लू टिक

Atishi on Vaccination : युवाओं की वैक्सीन को खत्म हुए अब 2 सप्ताह हो गए हैं लेकिन दिल्ली को युवाओं के लिए वैक्सीनेशन का स्टॉक नहीं मिला है: आतिशी