मुंबई. आज गूगल भारतीय फिल्मकार वी शांताराम की जयंती मना रहा है. जैसा कि सब जानते हैं गूगल खास पहचान और लोकप्रिय हस्तियों को अपने डूडल के जरिए शुभकामनाएं व श्रद्धांजलि देता है. ऐसे में आज गूगल भारत सिनेमा के फिल्मकार, फिल्म प्रड्यूसर और अभिनेता वी शांताराम का 116वीं जयंती मना रहा है. दरअसल वी शांताराम का नाम फिल्म जगत में बहुत ही मान सम्मान के साथ लिया जाता है. वी शांताराम ने हिंदी सिनेमा का अमूल्य योगदान रहा है. उन्हें देश के सर्वोच्च पुरस्कार से ही नहीं बल्कि इंटरनेशनल पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था.

शांताराम ने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 1921 में आई मूक फिल्म सुरेख हरण से की थी. इस फिल्म में उन्हें बतौर अभिनेता काम करने का मौका मिला था. फिल्म निर्देशक के तौर पर उन्होंने पड़ोसन, धर्मआत्मा, अमर ज्योति जैसी फिल्मों का निर्देशन किया था. इसके बाद उन्होंने खुद की फिल्म कंपनी बनाई. इस कंपनी का नाम प्रभास फिल्म्स कंपनी था. प्रभास कंपनी में शांतराम ने गोपाल कृष्णा, खूनी खंजर, रानी साहिबा और उदयकाल जैसी फिल्में निर्देशित की. बता दें शातांराम ने कई फिल्मों में अभिनय भी किया. शांताराम ने स्त्री, परछाई, दो आंखे बारह हाथ जैसे फिल्मों में एक्टिंग की.

वी शांताराम इन अवॉर्ड से सम्मानित हुए

वी शांताराम ने अपने सिनेमाई करियर में एक से बढ़कर एक फिल्में बनाई. वी शांताराम को देश के बड़े सम्मानों से भी सम्मानित किया जा चुका है. वी शांताराम को भारतीय सिनेमा जगत के सबसे बड़े अवॉर्ड नेशनल फिल्म अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है. वी शांताराम को 1957 में फिल्मफेयर अवॉर्ड दिया गया. इसके अलावा 1992 में वी शांताराम को पद्मविभूषण से सम्मानित किया गया. खास बात ये है कि वी शांताराम को इंटरनेशनल अवॉर्ड से भी नवाजा गया था. दरअसल 1958 में उन्हे फिल्म दो आंखे बाहर हाथ के लिए बर्लिन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में भी सम्मानित किया गया.


ये भी पढ़ें-अरुणाचल प्रदेश: भारत-चीन सीमा पर 6.4 तीव्रता का भूकंप, जान माल का कोई नुकसान नहीं


ये भी पढ़ें‘पद्मावती’ को लेकर दो कांग्रेसी दिग्गज आमने-सामने, ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले- शशि थरूर को इतिहास पढ़ने की जरूरत

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App