बॉलीवुड डेस्क, मुंबई. 1947 में भारत एक स्वतंत्र देश बना था. लेकिन आज यानी 6 सितंबर 2018 को देश हर तरह से आजाद हो चुका है. प्रगति की दिशा में इस आजादी को एक नए कदम के तौर पर देखा जा रहा है. आखिरकार समाज के एक वर्ग को उनका अधिकार अब मिल ही चुका है. समलैंगिकता को 6 सितंबर को खत्म कर दिया गया है और साथ ही धारा 377 को हटा दिया गया है, जिसे मानवता और समान अधिकारों के लिए एक बड़े फैसले के तौर पर देखा जा रहा है. देश अब एक बार फिर से चैन की सांस ले सकता है. वैसे सिनेमा एक ऐसा माध्यम रहा है जिसके द्वारा बार- बार समलैंगिकता के बिषय पर नजर डाला गया है. चोहे फिर वो बॉलीवुड की फिल्में हो या हॉलीवुड का. और देश इस ऐतिहासिक फैसले का पालन करेगा. तो चलिए ऐसे ही कुछ फिल्मों पर नजर डालते हैं, जिसे समलैंगिकता के विषय पर बनाया गया.

फायर: साल 1966 में आई वेटेरन एक्ट्रेस शबाना आजमी और नंदिता सेन की इंडो-केनेडियन फिल्म फायर ने उस समय काफी सुर्खियां बटोरी. इस फिल्म को दीपा मेहता ने डॉयरेक्ट किया था. ये फिल्म इसमत चुगौती 1942 की स्टोरी लिहाफ पर आधारित थी. फिल्म 1998 में रिलीज हुई थी.

अलीगढ़ : 2016 में मनोज वाजपेयी स्टारर फिल्म अलीगढ़ रिलीज हुई थी, इस फिल्म में मनोज वाजपेयी द्वारा निभाए गए प्रोफेसर के रोल को दर्शको ने काफी सराहा था. इस फिल्म को हंसल मेहता ने डॉयरेक्ट किया था, जिसे अपूर्वा असरानी ने लिखा था. 

मार्गरिटा विद अ स्ट्रॉ : सोनाली बॉस के निर्देशन में बनी मार्गरिटा विद अ स्ट्रॉ फिल्म जिसमें कल्कि कोचलिन मुख्य भूमिका में नजर आईं थीं. इस फिल्म में कल्कि सेरेबरल पालसी से गुजर रही होती हैं. 2014 में रिलीज हुई इस फिल्म में दिखाया गया था कि कल्कि एक बलाइंड लडकी के साथ रिलेशनसिप में रहती हैं. इस फिल्म को काफी अच्छा रिस्पांस मिला था.

आई एम: 2011 में रिलीज हुई फिल्म आई एम में चार कहानीयों को दर्शाया गया था- ओमार, अभिमन्यू, आफिया और मेघा. ये सारी फिल्म रियल लाइफ स्टोरी पर बेस्ड थीं. इसमें से एक फिल्म की थीम गे राइट्स पर आधारित थी.

कपूर एण्ड सन्स : धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले बनी फिल्म कपूर एण्ड सन्स भी होमोसेक्सुएलिटी पर आधारित थी. इस फिल्म में अभिनेता फवाद खान ने गे की भूमिका निभाई थी. फिल्म को दर्शको का काफी अच्छा रिस्पांस मिला था.

बॉम्बे टॉकिज: 2013 में आई बॉम्बे टॉकिज में चार शॉर्ट फिल्मों को दिखाया गया था. इस फिल्म को अनुराग कश्यप, दिबाकर बैनर्ज, जोया अख्तर और करण जौहर ने मिल कर डॉयरेक्ट किया था. करण जौहर द्वारा निर्देशित का शार्षक अजीब दास्तान है ये था. जिसमें रणदीप हुड्डा और साकिब सलीम प्रेमी की भूमिका में नजर आए थे. इस फिल्म में दिखाया गया कि विपरित सेक्स से शादी करने के बाद भी भावनाए नहीं बदलती.

Supreme Court IPC Section 377 Verdict: भारत के अलावा दुनिया के इन देशों में समलैंगिकता क्राइम नहीं है

Supreme Court IPC Section 377 Hearing: सुप्रीम कोर्ट में समलैंगिकता पर बुधवार को भी सुनवाई, धारा 377 अपराध या नहीं, फैसला जल्द

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App