मुंबई. बॉलीवुड अभिनेत्री रेखा आज 61 साल की हो गई हैं. ‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘खूबसूरत’, ‘सिलसिला’, ‘उत्सव’, ‘खून भरी मांग’ जैसी फिल्मों से बॉलीवुड में अलग पहचान बनाने वाली रेखा को 2010 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. रेखा राज्यसभा की सांसद भी रह चुकी हैं. उन्हें आखिरी बार सिल्वर स्क्रीन पर अमिताभ बच्चन अभिनीत फिल्म ‘शमिताभ’ में देखा गया था.
 
बचपन से ही था एक्टिंग का शौक-
 
चेन्नई में 11 अक्टूबर, 1954 को जन्मी रेखा गणेशन को बचपन से ही एक्टिंग का शौक था. रेखा को शुरुआत में सांवले रंग, भारी बदन और हिन्दी बोलने में सहज न होने की वजह से दर्शकों और फिल्म क्रिटिक की आलोचनाओं का सामना करना पड़ा. रेखा पहली बार 1966 में आई फिल्म ‘रंगुला रत्नम’ में बाल कलाकार के तौर पर बड़े पर्दे पर आई.
 
अमिताभ के साथ नाम जुड़ा-
 
जहां एक तरफ रेखा सफलता की ऊंचाइयां छू रही थीं, वहीं उनके मेगास्टार अमिताभ बच्चन के साथ प्रेम प्रसंग की भी खूब चर्चा हो रही थी. लेकिन बिग बी को लेकर रेखा जितनी फिल्मों में सफल थी, उतनी ही निजी जीवन में असफल थी. अमिताभ और रेखा  ने एक साथ सिलसिला, सुहाग, दो अनजाने, मुकद्दर का सिकंदर, मिस्टर नटवर लाल जैसी हिट फिल्में दी हैं.  
 
अमिताभ के अलावा नवीन निश्चल, विश्वजीत, जितेंद्र, शत्रुघ्न सिन्हा, विनोद मेहरा जैसे अभिनेता भी रेखा के निजी जीवन में आए. उनकी निजी जिंदगी हमेशा से विवादस्पद ही रही है. कहा जाता है कि रेखा की पहली शादी विनोद मेहरा से हुई थी, लेकिन सिमी ग्रेवाल के साथ एक इंटरव्यू में उन्होंने इस शादी महज अफवाह बताया था. 1990 में रेखा ने उद्योगपति मुकेश अग्रवाल से शादी की थी  लेकिन बाद में दोनों का तलाक हो गया जिसके बाद मुकेश अग्रवाल ने आत्महत्या कर ली.