मुंबई. एक्टर और बॉलीवुड के मुन्ना भाई संजय दत्त को जेल से बाहर आए हुए भले ही एक महीना हो गया है. लेकिन उनका कहना है कि वह अभी भी पूरी तरह से आजाद महसूस नहीं कर पाते.
 
उन्होंने अपने सजा के दिनों के बारे में बात करते हूए कहा,  ‘मैं एकांतवास में था. मुझे आजाद महसूस होने में थोड़ा लंबा समय लगेगा. आजादी की भावना अभी आनी बाकी है. मैं 23 सालों तक जेल के अंदर और बाहर रहा हूं. कई सारी बाधाएं थी, अनुमति लेनी पड़ती थी. मैं एक आजाद इंसान जैसे जीने की आदत डाल रहा हूं.’
    
संजय ने एक कार्यक्रेम में कहा कि जेल में वह बाकी कैदियों की तरह ही रहते थे. उन्हें वही खाना और कपड़ा मिलता था जो जेल के बाकी कैदियों को दिया जाता था. कार्यक्रम में उन्होंने अपने पिता सुनील दत्त को याद करते हुए कहा कि उन्हें संजय दत्त के ऊपर पूरा भरोसा था. उन्होंने निधन के पहले कहा था कि वह अपने बेटे पर गर्व करते हैं.
 
बता दें कि संजय दत्त 25 फरवरी को पुणे की यरवदा जेल से 42 महीने की सजा काटकर बाहर आए हैं. 56 साल के संजय को 1993 के मुंबई बम धमाकों से जुड़ें ममले में दोषी ठहराया गया था.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App