Friday, December 9, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 

 Green Tea पीने के फायदे जानकर, आज से पीना कर देंगे शुरू

0
Green tea benefits: ग्रीन टी (Green tea) से होने वालों फायदों को लेकर तमाम दावे किए जाते हैं. कुछ लोग कहते हैं कि ग्रीन...

इन सवालों से समझें पूरे गुजरात चुनाव का गणित: क्यों AAP का दिल्ली मॉडल...

0
गाँधीनगर: यदि गुजरात में इस ऐतिहासिक भाजपा जीत के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम के अलावा कोई महत्वपूर्ण कारण है, तो वह है...

Himachal Election Result 2022: अन्य के खाते में आई 3 सीटे, जाने किसने की...

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है।कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

हिमाचल से जीतने के बाद कांग्रेस विधायकों की चंडीगढ़ में बैठक, राजस्थान या छत्तीसगढ़...

0
नई दिल्ली: हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक दल की बैठक चंडीगढ़ में होगी। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पहले यहां चंडीगढ़ में जीते हुए विधायक...

Himachal Election Result 2022: कांग्रेस ने मारी बाजी, जाने हर सीट के नतीजे

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है। कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

UP Chunav 2022: क्या स्वामी को मिलेगा जीत का प्रसाद, या हाथ लगेगी खटाई

UP Chunav 2022:

कुशीनगर, चुनाव (UP Chunav 2022) से ठीक पहले भाजपा छोड़कर लाइमलाइट बटोरने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य खुद को पार्टियों के लिए ‘चुनाव जिताऊ’ नेता बताते आए हैं. स्वामी अक्सर ही मायावती से लेकर भाजपा तक को सत्ता के सिंहासन तक पहुंचाने का दम भरते नज़र आए हैं, लेकिन वह कुशीनगर जिले की फाजिलनगर सीट पर अपने ही चुनाव में फंसते दिखाई पड़ रहे हैं. पडरौना सीट से मौजूदा विधायक स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस बार अपनी सीट बदली है, वो फाजिलनगर से चुनाव लड़ रहे हैं जहाँ उनका सामना भाजपा के सुरेंद्र कुशवाहा से हो रहा है, जो दो बार के विधायक गंगा सिंह कुशावाहा के बेटे हैं. गौरतलब है, गंगा सिंह ने 2017 में इस सीट पर 48 फीसदी वोट पाकर जीत दर्ज की थी.

क्या इलियास अंसारी बन पाएंगे एक्स फैक्टर

सुरेंद्र कुशवाहा पिछड़ी बिरादरी से तालुकात रखते हैं, जबकि स्वामी प्रसाद खुद को पिछड़ों का नेता बताते आए हैं. ऐसे में यह देखने वाली बात होगी कि जनता किस पिछड़े नेता को चुनावी जंग में अगड़ा बनाती है, लेकिन भाजपा की ओर से भी ओबीसी कैंडिडेट को उतारने के बाद वोटों का बटवारा होना तो तय है, ऐसे में चुनाव में बसपा के उम्मीदवार इलियास अंसारी के एक्स फैक्टर बनकर उभरने के कयास भी लगाए जा रहे हैं. इलियास अंसारी लंबे समय तक सपा में रहे हैं, लेकिन स्वामी प्रसाद के फाजिलनगर आने से उनका पत्ता कट गया था, जिसके बाद उन्होंने सपा छोड़ बसपा का दामन थाम लिया था.

बता दें इलियास अंसारी की बसपा से उम्मीदवारी के चलते ही स्वामी प्रसाद मौर्य को पिछडों और मुस्लिमों के वोट मिलने पर संदेह होने लगा है, क्योंकि स्थानीय लोगों का एक वर्ग है, जो स्वामी प्रसाद मौर्य को इस सीट पर बाहरी नेता के तौर पर देखता है.

 

यह भी पढ़ें:

Russia-Ukraine war: रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति का बड़ा बयान, ‘तीसरा विश्व युद्ध’ ही विकल्प..

Latest news