July 13, 2024
  • होम
  • Lakhimpur case : 'बेटों ने गलत किया होता तो भाग जाते', आरोपी लड़कों के पिता ने दी सफाई

Lakhimpur case : 'बेटों ने गलत किया होता तो भाग जाते', आरोपी लड़कों के पिता ने दी सफाई

  • WRITTEN BY: Aanchal Pandey
  • LAST UPDATED : September 15, 2022, 4:58 pm IST

लखीमपुर. लखीमपुर में दलित बहनों के साथ हुए दुष्कर्म और हत्या का मामला इस समय सुर्ख़ियों में बना हुआ है, इस मामले में अब राजनीति भी शुरू हो गई है. विपक्ष इस मामले को लेकर राज्य सरकार पर हमलावर है, वहीं अब लड़कियों के परिजनों ने अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है. उन्होंने अंतिम संस्कार के लिए तीन शर्तें रखी हैं और उनका कहना है कि जब ये शर्तें पूरी होंगी तभी वो अंतिम संस्कार करेंगे. वहीं, इस मामले में अब आरोपी लड़कों के पिता ने सफाई भी दी है.

आरोपियों के घरवालों ने क्या कहा

आरोपियों के घरवालों ने कहा कि उनके लड़के बेकसूर हैं उन्होंने कुछ नहीं किया. परिवार ने कहा कि उनके लड़के तो दोपहर में राशन लेने गए थे, अगर इस दौरान उन्होंने कुछ गलत किया होता तो वो वापस क्यों आते वो तो भाग जाते. वहीं लड़कों के घरवालों ने कहा कि उनके लड़कों को पुलिस ने आधी रात को गिरफ्तार किया, उनके लड़के प्रवासी कामगार हैं और छोटा-मोटा काम कर के गुज़ारा करते हैं.

परिजनों ने क्या शर्त रखी

इस मामले पर परिजनों ने अंतिम संस्कार करने के लिए तीन शर्तें रखी हैं, उनकी पहली शर्त है कि पीड़ित परिवार को 1 करोड़ रुपए का मुआवजा सरकार की और से दिया जाए. साथ ही मृतक के परिजनों के बेटे को उसकी योग्यता के मुताबिक सरकारी नौकरी दी जाए और इस मामले में शामिल सभी आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई जाए. दरअसल, बीते दिन लखीमपुर में दो नाबालिग दलित सगी बहनों का शव गन्ने के खेत में पेड़ पर लटकता मिला था जिसके बाद से ही हड़कंप मच गया है, बता दें खेत में काम पर जा रहे ग्रामीणों ने सबसे पहले दोनों लड़कियों के शव को देखा था, जिसके बाद ग्रामीणों ने आनन-फानन में इस घटना की सूचना लड़कियों को परिजनों और पुलिस को दी थी.

 

लखीमपुर कांड: जुनैद, सुहैल, आरिफ समेत सभी 6 आरोपी गिरफ्तार, फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन