नई दिल्ली, उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त कार्यालय से चंद कदमों की दूरी पर सिविल लाइंस इलाके में हथियारबंद बदमाशों ने लूटपाट के दौरान एक नामी बिल्डर की चाकू गोदकर हत्या कर दी. अब इस मामले में दो गिरफ्तारियां हो गई हैं. दोनो के मेट्रो में होने का इनपुट स्पेशल स्टाफ की मैट्रो टीम के पास था, जिसके बाद इन दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी की गई है. पुलिस पूछताछ में पता चला है कि एक आरोपी का नाम विष्णु है और दुसरे का नाम विशन, दोनों आरोपी वज़ीराबाद के रहने वाले बताए जा रहे हैं.

सीसीटीवी फुटेज से मिले सबूत

बेहद हाईप्रोफाइल सिविल लाइंस की इस सोसायटी में सुरक्षा के काफी पुख्ता इंतज़ाम किए गए हैं. यहाँ थोड़ी-थोड़ी दूरी पर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं. इसके अलावा रात के समय सोसायटी में दाखिल होने के दो-तीन गेट को बंद कर दिया जाता है, आवाजाही के लिए सिर्फ एक ही गेट खुला रहता है, उससे भी बिना किसी जानकार के दाखिल होना मुश्किल है. ऐसे में, इतनी सुरक्षा में बिल्डर की हत्या होने से शहर में हड़कंप मच गया है.

पुलिस इस मामले में दर्जनभर से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज खंगाल चुकी है, इसमें से कई कैमरों में अहम सुराग भी कैद हैं. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया राम किशोर अग्रवाल कई दशकों से यहां रहते था, और उनके घर में कई साल से पुराने नौकर काम करते थे. घर में तीन नौकर, एक मेड (आया), एक सुरक्षा गार्ड व दिन के समय रहने वाले इनके कार चालक रहते हैं. ऐसे में, पुलिस का मानना है कि सुरक्षा के इतने कड़े इंतज़ामों में बिना किसी अपने या जानकारी की सहायता के इस वारदात को अंजाम नहीं दिया जा सकता.

 

जोधपुर हिंसा: झंडा लगाने को लेकर दो पक्षों में पत्थरबाजी, 3 पुलिसकर्मी घायल

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर