हांगझू. चीन के हांगझू में चल रहे G-20 शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वैश्विक आर्थिक ग्रोथ को बढ़ाने के लिए संरचनात्मक सुधार का एजेंडा पेश किया. PM मोदी ने समिट में कहा कि हम एक ऐसे समय में मिल रहे हैं जब विश्व को जटिल राजनीतिक और आर्थिक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
PM मोदी ने कहा कि दुनिया में आर्थिक सुधारों के लिए बिना किसी अवरोध के समानता वाली व्यवस्था स्थापित किए जाने की वकालत की, जिसमें डिजिटल गैप खत्म किया जा सके और स्किल डवलेपमेंट को बढ़ावा मिले. इस दौरान मोदी ने दुनिया में ग्रोथ और सुधार के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रयासों की जमकर सराहना भी की.
 
PM ने कहा कि G-20 से जुड़े देशों के सामने एक जैसी ही चुनौतियां और अवसर है, हम साथ मिलकर एक बेहतर दुनिया बना सकते हैं और आम लोगों को बेहतर दुनिया दिखा सकते हैं, लेकिन इसके लिए हम सबको मिलकर विवादित मुद्दों को एक किनारे करना होगा. भारत का इस मामले में हमेशा से साफ मत रहा है कि विवादित मुद्दों से इतर भी हम सब विकास के एजेंडे पर चल सकते हैं.
 
PM मोदी ने कहा कि वित्तीय प्रणाली में सुधार करने के लक्ष्य के लिेए घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के साथ बुनियादी ढांचे के निवेश को बढ़ाना होगा. उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय एजेंडा को हमें साझा रूप से इस प्रकार से आकार देना चाहिए जिससे विकासशील राष्ट्रों को अपने उद्देश्यों को हासिल करने में मदद मिल सके.