हांगझू. G-20 सम्मेलन में  शामिल होने चीन के हांगझू पहुंचे अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनकी टीम को शनिवार को चीनी अधिकारियों के अजीब बर्ताव का सामना करना पड़ा था. इस पर ओबामा ने चीन की जमकर खिंचाई की. ओबामा ने रविवार को कहा कि इससे पता चलता है कि अमेरिका और चीन के मूल्यों के बीच कितना बड़ा अंतर है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ओबामा ने आगे कहा कि इससे मानवाधिकार और प्रेस की आजादी जैसे मुद्दों पर अमेरिका और चीन के बीच के नजरिए का अंतर पता चलता है. बिट्रेन की नई प्रधानमंत्री टरीसा से बातचीत में भी ओबामा ने इस मुद्दे को उठाया. उन्होंने टरीसा से कहा कि चीन की तरफ से इस तरह का यह मामला नहीं है. ओबामा ने कहा कि मुझे लगता है हम जो काम कर रहे हैं वो काम प्रेस तक पहुंचे. उनके पास सवालों का जवाब देने की क्षमता है.
 
 
क्या था मामला ?
G-20 सम्मेलन में  शामिल होने चीन के हांगझू पहुंचे बराक ओबामा और उनकी टीम को शनिवार को चीनी अधिकारियों के अजीब बर्ताव का सामना करना पड़ा था. ओबामा जहां कहीं भी जाते हैं उनकी सुरक्षा के कड़े इंतजाम होते हैं. वह पूरी एक टीम के साथ जाते हैं. यहां तक की रिपोर्टर्स की एक टीम भी ओबामा के साथ होती है.
 
 
चीन में भी रिपोर्टर्स ओबामा की फोटो लेना चाह रहे थे, लेकिन हांगझू एयरपोर्ट में ओबामा के प्लेन की लैंडिंग के बाद चीनी सुरक्षा अधिकारियों ने एक रस्सी लगा दी और रिपोर्टर्स को पीछे धकेल दिया. इसके अलावा चीनी अधिकारियों ने रिपोर्टर्स को वहां से चले जाने को भी कहा.
 
चीनी अधिकारी व्हाइट हाउस के अधिकारियों पर चिल्लाये भी. जब अमेरिका की एक महिला अधिकारी ने चीनी अधिकारियों का विरोध किया तब चीनी अधिकारी ने यह कह दिया कि यह उनका देश है और उनका एयरपोर्ट. उन्होंने कहा, ‘यह हमारा देश है और हमारा एयरपोर्ट है.’ इतना ही नहीं अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुजन राइस और व्हाइट हाउस के प्रेस कॉर्प्स की तक सुरक्षा के नाम पर जांच की गई.